अपना तानाशाही रवैया छोड़कर ईमानदारी से ड्यूटी करें जीएसटी अधिकारी- एन के पन्डित

HNN/ शिमला

राहुल-प्रियंका गाँधी सेना कांग्रेस पार्टी के प्रदेश सह मीडिया इंचार्ज और पन्डित जीएसटी सेंटर के मालिक एन के पन्डित ने राजधानी शिमला में पत्रकारों से बात करते हुए जीएसटी अधिकारियों को सलाह दी है कि वो तानाशाही रवैया छोड़कर ईमानदारी से अपनी ड्यूटी करें। पन्डित ने राजधानी शिमला में मीडिया से रु बरु होते हुए जीएसटी अधिकारियों पर खूब भड़ास निकालते हुए कहा कि जीएसटी अधिकारी अपनी थानेदारी व्यापारियों पर जम कर निकालते है ऐसे में फिर केंद्र सरकार और हिमाचल सरकार का राजस्व जीएसटी कलेक्शन कैसे बढ़ेगा ?

पन्डित जीएसटी के मालिक एन के पन्डित ने कहा कि नया जीएसटी पंजीकरण करवाना नया जीएसटी नंबर लेना अब आसान काम नहीं रहा। जैसे ही नए जीएसटी नंबर की फाइल जीएसटी पोर्टल पर डालते है उसके बाद जीएसटी अधिकारियों द्वारा बिना तथ्य की जाँच पड़ताल किये यानि ऑब्जेक्शन बिना मतलब के लगा दी जाती है जो उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि अधिकारी फाइल पर ओब्जेक्टिन लगाते है कि इनकम टैक्स की रिटर्न तीन साल की अपलोड करें।

मैं जीएसटी अधिकारियों, हिमाचल सरकार और केंद्र सरकार से पूछना चाहता हूँ कि जब जीएसटी नंबर आप देते ही नहीं हो तो व्यापारी कैसे अपनी रिटर्न दाखिल करके आपको देगा। पहले आप व्यापारी को नंबर दो उसके बाद वो अपनी रिटर्न देगा। राहुल -प्रियंका गाँधी सेना कांग्रेस पार्टी के प्रदेश सह मीडिया इंचार्ज एन के पन्डित ने कहा कि व्यापारियों के साथ जीएसटी अधिकारी अपनी थानेदारी ना दिखा कर अपना तानाशाही छोड़कर शालीनता से पेश आये।

उन्होंने जीएसटी अधिकारियों से दो टूक कहा कि आपको ये कोई भी तुगलकी फरमान देने से पहले ये याद रखना होगा कि जब व्यापारी जीएसटी देता है तभी उसी पैसे से आपको तनख्वा मिलती है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि व्यापारी कोई चोर नहीं है बल्कि व्यापारी ईमानदारी से अपना जीएसटी भरकर सरकारी खजाने को भरने में योगदान देता है।

एन के पन्डित ने कहा कि अगर जीएसटी अधिकारियों ने अपनी कार्य प्रणाली में सुधार नहीं किया तो उनको इसकी एवज में बहुत खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। पन्डित ने ऐसे जीएसटी अधिकारियों पर जल्दी नकेल कसने की हिमाचल सरकार से मांग कि है और जय राम सरकार के समक्ष ये मुद्दा जल्दी ही उठाया जायेगा।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो