असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का डाटाबेस तैयार कर आधार से किया जाएगा लिंक: नीरज कुमार

HNN/ लाहौल

असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का नेशनल डाटाबेस तैयार करने को लेकर जिला स्तरीय प्रगति समीक्षा बैठक उपायुक्त नीरज कुमार की अध्यक्षता में आयोजित की गई जिसमें विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया। उपायुक्त ने कहा कि असंगठित श्रमिकों को एक साथ जोड़ने के साथ साथ ही श्रम पोर्टल के माध्यम से उन्हें कई प्रकार की सुविधाएं प्रदान की जाएंगी इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य निर्माण श्रमिक को मनरेगा श्रमिक, प्रवासी श्रमिक, घरेलू श्रमिक, कृषि श्रमिक, स्वामी योजित श्रमिक, रेहड़ी पटरी विक्रेता, छोटे दुकानदार, आशा वर्कर, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता,मछली विक्रेता श्रमिक एवं अन्य सभी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का पंजीकरण सुनिश्चित करना है।

उन्होंने बताया कि 26 अगस्त 2021 को भारत सरकार द्वारा श्रम पोर्टल का शुभारंभ किया गया था, सभी असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों से संबंधित जानकारी एकत्रित की जाएगी इस पोर्टल के माध्यम से लगभग 30 के 36 करोड़ असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का डाटाबेस तैयार किया। उन्होंने बताया कि इस श्रम पोर्टल पर पंजीकरण के बाद दुर्घटना बीमा व कर मिलेगा दुर्घटना से हुई मृत्यु या अस्थाई रूप से विकलांग होने पर ₹200000 और आंशिक रूप से विकलांग होने पर ₹100000 की राशि प्रदान की जाएगी।

श्रमिक स्वयं भी आश्रम के मोबाइल एप्लीकेशन या वेबसाइट www.eshram.gov.in पर ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं इसके अतिरिक्त सभी लोकमित्र केंद्रों पर भी पंजीकरण किया जा सकता है। पंजीकरण के लिए श्रमिक की आयु 16 से 59 वर्ष के बीच होनी चाहिए तथा उसके पास आधार कार्ड एवं बचत बैंक खाता नंबर आईएफएससी कोड सहित होना चाहिए।

बैठक में सदस्य सचिव डीआर कायस्था द्वारा सभी विभाग के अधिकारियों से आग्रह किया की वह अपने विभागों से संबंधित असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का ईशान पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण करवाने के लिए भरसक प्रयास करें और इस पोर्टल का अधिक से अधिक प्रचार एवं प्रसार करें ताकि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का पंजीकरण सुनिश्चित किया जा सके और असंगठित श्रमिकों के हितों की सुरक्षा की जा सके।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो