आधुनिक शिक्षा पद्धति तथा नैतिक मूल्यों की जानकारी का समन्वय आवश्यक-वीरेंद्र कंवर

HNN News/ सोलन

ग्रामीण विकास, पंचायती राज, पशुपालन एवं मत्स्य पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि युवाओं के संपूर्ण विकास के लिए आधुनिक शिक्षा पद्धति तथा नैतिक मूल्यों एवं संस्कारों की जानकारी का समन्वय आवश्यक है। वीरेंद्र कंवर आज सोलन जिला के धर्मपुर स्थित पाईनग्रूव विद्यालय के 28वें वार्षिक समारोह को संबोधित कर रहे थे।

वीरेंद्र कंवर ने कहा कि समाज तभी समावेशी विकास के पथ पर अग्रसर हो सकता है यदि युवा न केवल आधुनिक ज्ञान में पारंगत हों अपितु अपनी संस्कृति, मूल्यों एवं संस्कारों से भलीभांति परिचित हों।

उन्होंने कहा कि आज का समय प्रतियोगिता का समय है। विश्व एवं राष्ट्र तथा प्रदेश स्तर पर वैश्वीकरण के इस समय में वही युवा सफल हो सकते हैं जो शिक्षा के साथ-साथ अपने राष्ट्र के हित को सर्वोपरि रखें।

इसके लिए युवाओं का संस्कारित होना आवश्यक है। उन्होंने अध्यापक वर्ग का आह्वान किया कि वे छात्रों को विषयों की समग्र जानकारी प्रदान करने के साथ-साथ सांस्कृतिक मूल्यों का ज्ञान भी दें।

ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री ने कहा कि युवाओं को सदैव अपनी जड़ों से जुड़े रहना होगा। उन्होंने कहा कि इस वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जन्मशति मना रहा है।

युवाओं को इस विशिष्ट अवसर पर अपने परिवेश, प्रदेश तथा राष्ट्र को पूर्ण रूप से स्वच्छ एवं प्लास्टिक मुक्त रखने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने कहा कि हिमाचल देश के उन प्रथम राज्यों में से एक है जहां सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाया गया है। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में विद्यालय स्तर पर युवाओं में व्यावसायिक दृष्टिकोण सृजित करने पर बल दिया जा रहा है।

विभिन्न राजकीय विद्यालयों को स्मार्ट क्लास तकनीक से सुसज्जित किया जा रहा है। शिक्षा क्षेत्र पर इस वर्ष 7598 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। उन्होंने छात्रों से आग्रह किया कि अपने लक्ष्य को अर्जुन की भांति प्राप्त करने के लिए सत्त प्रयत्नशील रहें। उन्होंने युवाओं से नशे से सदैव दूर रहने का आह्वान भी किया।

उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में पाईनग्रूव विद्यालय की उपलब्धियों की सराहना करते हुए आशा जताई कि विद्यालय भविष्य में अपनी गतिविधियों का विस्तार करेगा। उन्होंने कहा कि इस विद्यालय में भारत की प्राचीन गुरूकुल पद्धति को आधुनिक रूप में अपनाया जा रहा है। उन्होंने आशा जताई कि विद्यालय युवाओं को देश का उत्तरदायी नागरिक बनाने की दिशा में सदैव कार्यरत रहेगा।

वीरेंद्र कंवर ने इससे पूर्व विद्यालय में छात्रों द्वारा आयोजित प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा परेड का निरीक्षण किया। इस अवसर पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। विद्यालय के हैडमास्टर कैप्टन एजे सिंह ने मुख्यातिथि का स्वागत किया।

ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री की धर्मपत्नी मीना कंवर, अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी सोलन विवेक चंदेल, पुलिस उपाधीक्षक परवाणू योगेश रोल्टा, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी राजेंद्र गौतम, अन्य गणमान्य व्यक्ति, विद्यालय के प्राध्यापक, छात्र तथा अभिभावक इस अवसर पर उपस्थित थे।