आवारा सांड के हमले से गंभीर रूप से घायल हुए 80 वर्षीय बुजुर्ग की हुई मौत

आज थी दोनों पोतियों की शादी, आज ही शिमला में ली अंतिम सांस

HNN News/ मंडी

अपनी पोतियों की शादियों के लिए जिस 80 वर्षीय ईश्रू ने कई सपने संजोए थे उस ईश्रू को शायद यह मालूम भी नहीं होगा कि उसे उसी दिन मौत के आगोश में समाना पड़ेगा जिस दिन उसकी लाडली पोतियों की डोलियां उठेंगी।

बीती 1 नवंबर को लेदा में आवारा सांड के हमले से गंभीर रूप से घायल हुए हटनाला गांव निवासी 80 वर्षीय ईश्रू की आज मौत हो गई। भाग्य की विडम्बना देखिए कि आज ही उसकी दोनों पोतियों की शादी भी हुई। घर पर एक तरफ खुशी का माहौल था तो दूसरी तरफ बुजुर्ग के स्वास्थ्य की चिंता।

सुबह करीब 7 बजे आईजीएमसी शिमला में ईश्रू की मौत हो गई। लेकिन घरवालों को यह खबर इसलिए नहीं बताई गई क्योंकि घर पर एक नहीं बल्कि दो-दो बारातें आनी थी। परिवार के जिन लोगों को पता था उन्होंने दिन भर अपने चेहरे पर झूठी खुशी बयां करके जैसे-तैसे शादी समारोह को निपटाया।

जैसे ही पोतियों की डोलियां घर से उठी तो घर में मातम पसर गया। जिन्हें बुजुर्ग की मौत के बारे में पता था उन्होंने सभी को इसकी सूचना दे दी। मृत देह दिन भर शिमला में रखने के बाद आज देर रात उसे घर लाया जाएगा। कल अंतिम संस्कार किया जाएगा। मृतक ईश्रू के पुत्र कर्मचंद ने बताया कि सुबह उसके पिता की तबीयत और खराब हो गई।

मौके पर मौजूद डाक्टर ने बचाने का काफी प्रयास किया लेकिन उन्हें बचा नहीं पाए। 7 बजे डाॅक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। कर्मचंद ने बताया कि उनके पिता पत्थर तोड़ने का काम करते थे और जिंदगी भर एक गरीब परिवार में अपना जीवन यापन किया।

वहीं एसडीएम बल्ह आशीष शर्मा ने ईश्रू राम के निधन पर शोक जताया है और पीड़ित परिवार को प्रशासन की तरफ से हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है।