इस दिन से होगा मादक द्रव्यों के सेवन एवं मदिरा व्यसन पर रोक के लिए विशेष अभियान

नशाखोरी का उन्मूलन सभी का सामूहिक उत्तरदायित्व-केसी चमन

HNN News/ सोलन

सोलन जिला में मादक द्रव्यों के सेवन एवं मदिरा व्यसन पर रोक के लिए विशेष अभियान की रूपरेखा निर्धारित करने के लिए आज यहां एक बैठक आयोजित की गई।

बैठक की अध्यक्षता उपायुक्त सोलन केसी चमन ने की। केसी चमन ने कहा कि प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देश पर यह विशेष अभियान पूरे राज्य के साथ-साथ सोलन जिला में 15 नवम्बर, 2019 से 15 दिसम्बर, 2019 तक कार्यान्वित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य जन-जन को नशाखोरी के विरूद्ध जागरूक बनाकर इस सामाजिक कुरीति का उन्मूलन सुनिश्चित करना है।


उपायुक्त ने कहा कि इस महत्वपूर्ण अभियान की सफलता विभिन्न विभागों, स्वयंसेवी संस्थाओं और युवाओं के आपसी समन्वय पर निर्भर करती है। मादक द्रव्यों के सेवन से विशेष रूप से युवा पीढ़ी अधिक पीडि़त है।

उन्होंने कहा कि इस अभियान के माध्यम से जहां अभिभावकों एवं समाज के विभिन्न वर्गों को नशे के दुष्परिणामों के बारे में जागरूक किया जाएगा वहीं युवाओं को बताया जाएगा कि नशा किस प्रकार उन्हें शारीरिक एवं मानसिक रूप से खोखला कर देश एवं प्रदेश के विकास को ग्रहण लगा रहा है।

उन्होंने कहा कि नशोखोरी को समाप्त करने के लिए सभी को एकजुट होकर प्रयास करने होंगे और व्यक्गित उत्तरदायित्व को समझना होगा।

केसी चमन ने कहा कि प्रदेश सरकार ने इस अभियान के लिए विस्तृत कार्य योजना तैयार कर जिला स्तर पर प्रेषित की है। उन्होंने सभी विभागों, स्वयंसेवी संस्थाओं तथा शिक्षण संस्थानों के प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि इस संबंध में विभाग स्तरीय कार्य योजना 05 नवंबर, 2019 तक उपायुक्त कार्यालय को प्रेषित करें ताकि इसे राज्य सरकार को उचित स्तर पर प्रेषित किया जा सके।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के निर्देश पर 15 नवंबर, 2019 से जिला सोलन में जिला मुख्यालय, उपमंडल एवं आवश्यकतानुसार पंचायत स्तर पर अभियान आरंभ कर दिया जाएगा।

उन्होंने सभी उपमंडलाधिकारियों को निर्देश दिए कि वे राज्य सरकार द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उपमंडल स्तर पर सभी के सहयोग से अभियान को गति प्रदान करें।

केसी चमन ने कहा कि 15 नवंबर को अभियान का शुभारंभ प्रातः 6.30 बजे प्रभात फेरी के साथ किया जाएगा। प्रभात फेरी में युवाओं के साथ-साथ विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाएं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, छात्र तथा विभिन्न विभागों के प्रतिनिधि भाग लेंगे। प्रभात फेरी में नारों एवं अन्य माध्यमों से व्यापक स्तर पर मादक द्रव्यों के विरूद्ध चेतना उत्पन्न की जाएगी।

उन्होंने निर्देश दिए कि सभी स्तरों पर प्रभात फेरी का ‘रूट’ निर्धारित किया जाए। इसी दिन योग सत्र आयोजित किए जाएंगे, विद्यालय, महाविद्यालय, विश्वविद्यालय, आंगनबाड़ी एवं कार्यालय स्तर पर नशे के विरूद्ध शपथ दिलाई जाएगी और निर्धारित स्तरों पर नशाखोरी के विरूद्ध संवाद आयोजित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थानों पर मादक द्रव्यों के व्यसन के विरूद्ध जागरूक करने के लिए नुक्कड़ नाटक भी आयोजित किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि इसी प्रकार 15 दिसंबर, 2019 तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने मीडिया से आग्रह किया कि इस अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित बनाएं ताकि सोलन जिला में मादक द्रव्यों के व्यसन के विरूद्ध सभी को जागरूक बनाया जा सके।

अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी विवेक चंदेल ने कहा कि इस अभियान में सभी की समुचित भागीदारी अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि विशेष रूप से शिक्षण संस्थानों के स्तर पर इस अभियान की सफलता नशाखोरी के उन्मूलन में सहायक सिद्ध होगी।

सहायक आयुक्त भानू गुप्ता ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बद्दी नरेश शर्मा, उपमंडलाधिकारी सोलन रोहित राठौर, उपमंडलाधिकारी कंडाघाट डॉ. संजीव धीमान, उप पुलिस अधीक्षक सोलन रमेश शर्मा, व्यापार मंडल सोलन के अध्यक्ष मुकेश गुप्ता, अन्य प्रतिनिधि, विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि, विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी तथा सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधि बैठक में उपस्थित थे।