ADVERTISEMENT

उपचुनाव की जीत पर निर्भर होगा पच्छाद विधानसभा क्षेत्र का भविष्य

सिरमौर के सीनियर मोस्ट विधायक ने सीधे सीधे मंच से बोला- कैंडिडेट को जीताना है- कहीं ऐसा न हो की यहाँ के विकास पर लग जाए ग्रहण

HNN News/ पच्छाद

पच्छाद के सराहां में SDM कार्यालय का विधिवत शुभारम्भ किए जाने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस बड़ी घोषणा को अमलीजामा पहनाते हुए विधांनसभा क्षेत्र में चुनावी बिगुल भी फूक दिया है। असल में इस SDM कर्यालय की मांग करीब डेढ़ दशक से लंबित चल रही थी उपचुनाव से पहले भाजपा ने इस बड़ी गले की फांस को भी हटाने में कामियाबी हासिल कर ली है।

विज्ञापन के लिये सम्पर्क करें: विज्ञापन के लिए +917018559926 पर “Ad on HNN” लिख कर whatsapp पर भेजें।

मगर, पच्छाद की ठकुराई संस्कृति से परिचय न होते हुए जिला सिरमौर से पांवटा क्षेत्र के वरिष्ठ विधायक सुखराम चौधरी ने माहौल बिगाड़ दिया जब उन्होंने मंच से धमकी देते हुए यह भी कह डाला कि यहाँ से कैंडिडेट जो भी हो उसे भारी मतों से जीताना है कहीं ऐसा न हो कि पच्छाद के विकास पर ग्रहण लग जाए। सुखराम चौधरी का यह अंदाज भले ही पार्टी के प्रति निष्ठा को लेकर कहा गया हो मगर यह क्षेत्र रिज़र्व होते हुए भी ठाकुरों के स्वाभिमान के लिए जाना जाता है।

हालाँकि, इस कही गई बात को प्रदेश के सबसे तेज तरार भाजपा नेता नाहन के विधायक व विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल ने संभाल लिया। क्यूंकि डॉ. बिंदल यहाँ की आबो हवा को भी अच्छी तरह से जानते व पहचानते है। बिंदल ने कहा की पच्छाद क्षेत्र पर जयराम सरकार की विशेष कृपा है। जितना विकास इस क्षेत्र में किया जा रहा है उतना विकास प्रदेश की किसी भी विधानसभा में नहीं हो रहा है।

तो वहीँ जैसे ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंच संभाला उसके बाद उन्होंने अपने गृह क्षेत्र की तुलना में पच्छाद के विकास पर निरंत्रता बनाए रखने के लिए यहाँ से चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी को पूर्व विधायक सुरेश कश्यप से भी ज्यादा लीड दिलाने की अपील की। हालाँकि, यह कार्यक्रम पूरी तरह से चुनावी माहौल को देखते हुए तैयार किया गया था जिसमे यह तो साफ़ हो गया कि पच्छाद के दो राजगढ़ व सराहां क्षेत्र जिसे गिरिवार व गिरिपार कहा जाता है। इनमे आपसी जंग साफ़ झलक रही है। जबकि, मुख्यमंत्री ने यह भी बिल्कुल साफ़ कर दिया कि पार्टी का नेतृत्व ही तय करेगा कि कौन उम्मीदवार होगा।

इसके साथ ही सुरेश कश्यप ने अपने विधानसभा व गृह क्षेत्र में बड़ी ही कुशल नीति का इस्तेमाल करते हुए मुख्यमंत्री से ज्यादा घोषणाएं गिरिपार क्षेत्र के लिए करवाए जाने को लेकर राजनीतिक संतुलन बनाए रखा। जबकि, इस माहौल में अंदाजा तो यह भी लगाया जा रहा है कि सांसद अपने गृह क्षेत्र में दोनो क्षेत्रों के बीच का चेहरा प्रोजेक्ट कर रहे हो।

मंच पर भावी प्रत्याशी का चेहरा कहीं भी नजर ना आना बड़ा सस्पेंस क्रिएट क्र रहा है। हैरानी की बात यह है कि बलदीव भंडारी वाले प्रकरण के बाद चर्चा में आई वरिष्ठ भाजपा नेत्री दयाल प्यारी का नाम सूचि से ही गायब हो गया। हेलिपैड पर दयाल प्यारी अपनी समर्थकों के साथ मुख्यमंत्री के स्वागत के लिए फूलो का हार लिए नजर तो आई मगर स्टेज व सामने की दीर्घा में उसे कहीं जगह नहीं मिली।

इससे तो यह साफ़ हो जाता है कि दयाल प्यारी का पत्ता भावी प्रत्यासी के नाम की लिस्ट से कट चूका है। अब देखना यह है कि दर्जनों घोषणाओं में से कुछ ख़ास घोषणाओं को मंजूरी दिए जाने के बाद किस चेहरे को हाई कमान प्रोजेक्ट करती है।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंच से यह भी घोषणा की है कि करीब 10 दिनों के अंदर चुनाव की तिथि की घोषणा की जा सकती है। भावी प्रत्याशी गिरिपार व गिरिआर से होगा यह प्रश्न पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने इसका जवाब देने से कन्नी भी काट ली। अब यह तो तय है कि पच्छाद क्षेत्र के उपचुनाव में जो भी प्रत्याशी होगा उसकी जीत तो सुनिश्चित है। मगर, जो माहौल मौजूदा समय तैयार हो रहा है उसमे यह क्षेत्र दो जगह बटता हुआ नजर आता है। कार्यक्रम में गिरिपार क्षेत्र नदारद रहा।

अब यदि कयासो की बात की जाए तो भाजपा के युवा नेता के अलावा गिरिपार और गिरिआर के बिलकुल बीच के हिस्से से सम्बन्ध रखने वाले पुराने भाजपा कार्यकर्ता बलदेव कश्यप का नाम मुख्य चर्चा में है। पार्टी सूत्रों के हवाले से पच्छाद भाजपा मंडल भी दबी जुबान से बलदेव कश्यप को समर्थन दे रहा है।

वहीँ, ग्राम धार टिक्करी की कविता चौहान, राजगढ़ क्षेत्र से रीना कश्यप, ABVP के युवा नेता आशीष सिकटा भी दौड़ में है। अब आज के चुनावी कार्यक्रम से यह तो एकदम साफ़ हो गया है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर गिरिआर और गिरिपार क्षेत्र में संतुलन तथा दोनों क्षेत्रों के लोगो का दिल जीतकर ऐसा प्रत्याशी घोषित करेंगे जिस पर दोनों क्षेत्रों की सहमति होगी क्योंकि सुरेश कश्यप के द्वारा जिस प्रकार राजगढ़ के एक कोने से लेकर पच्छाद के हरियाणा के साथ लगते बॉर्डर तक कि दर्जनों मांगो का जो पुलिंदा मुख्यमंत्री के सामने रखा गया है, उससे लोगों में उम्मीद की किरण बनी रहेगी।

मुख्यमंत्री ने गिंनीघाट एरिया में औद्योगिक क्षेत्र बनाए जाने को लेकर अपनी सहमति भी दे दी है जिससे क्षेत्र का बेरोजगार युवा वर्ग काफी उत्साहित भी है। मुख्यमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि विकास को लेकर वे अगर हमें रोकना चाहते है तो हम रुकने वाले नहीं है। उन्होंने कहा कि हम काम करते है शोर नहीं डालते है। उन्होंने पूर्व मुख्यम्नत्री के लिए कहा कि हम राजा साहब का आदर करते है मगर हमने उनके क्षेत्र से भी लोकसभा चुनाव में 27,000 से अधिक की लीड ली है।

जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में हमारी ही सरकार है मगर विधानसभा में पच्छाद क्षेत्र से अब सुरेश कश्यप नहीं है। लिहाजा, यहाँ की समस्याओं और जनता की मांगो को लेकर एक दमदार प्रत्याशी भारी मतों से जीताकर पच्छाद की जनता ने विधानसभा में भेजना है।

इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल, पांवटा के विधायक सुखराम चौधरी, खाद्य आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बलदेव तोमर, विपन्न बोर्ड के अध्यक्ष बलदेव भंडारी, जिला सिरमौर भाजपा अध्यक्ष विनय गुप्ता, मंडल प्रधान प्रताप ठाकुर, किसान मोर्चा के अध्यक्ष भूपेंद्र ठकुर, महिला मोर्चा पच्छाद की अध्यक्ष रीता ठाकुर, किसान मोर्चा के प्रदेश प्रवक्ता सुनील शर्मा के अलावा उपयुक्त सिरमौर डॉ. R.K. प्रूथी, SP सिरमौर अजय कृष्ण शर्मा, ASP वीरेंद्र ठाकुर मुख्य रूप से मौजूद रहे।

ADVERTISEMENT
 
 

न्यूज़ अलर्ट

बैल आइकॉन को क्लिक कर के पाएं एच एन एन न्यूज़ अलर्ट।

Most Popular

To Top