एनएच ठेकेदार ने तोड़ डाली IPH की पाइप, यशवंत विहार क्षेत्र 3 दिन से प्यासा

राजनीतिक पहुंच रखता है ठेकेदार , पुलिया बनाए जाने के दौरान आईपीएच के पाइप हेतु नहीं ली कोई परमिशन जेसीबी लगाकर फाड़ डाली पाइप

HNN News नाहन

नाहन शिमला रोड शहर से करीब आधा किलोमीटर दूर शांति संगम के पास एनएच पर एक ठेकेदार के द्वारा बगैर विभाग की इजाजत लिए आईपीएच की मुख्य पाइप लाइन को फाड़ डाला गया है। जिसके चलते पूरा यशवंत बिहार जड़जा क्षेत्र पिछले 3 दिन से पीने के पानी से महरूम है।

चूंकि नाहन आईपीएच विभाग इन दिनों सबसे व्यस्त दौर से गुजर रहा है। शहर में पेयजल को लेकर एक बड़ा क्रांतिकारी बदलाव हो रहा है। यह कार्य जल्द संपन्न हो लोगों की परेशानियां दूर हो इसलिए आईपीएच का पूरा का पूरा अमला शहर में डटा हुआ है।

मगर वही राष्ट्रीय राजमार्ग अथॉरिटी नाहन अपने ठेकेदार को पूरा संरक्षण देते हुए उसकी गलतियों पर पर्दा डालने की कोशिश भी कर रहा है। मामला कुछ इस प्रकार से है कि करीब 3 दिन पहले शहर से कुछ दूर शांति संगम के पास सड़क के किनारे नालियां और पुलिया बनाए जाने का कार्य चल रहा है।

ठेकेदार के सुस्त व ढुलमुल रवैया के चलते किए जा रहे कार्य में देरी भी हो रही है तो वही नालियों के साथ पैराफिट भी ठेकेदार के द्वारा फाड़ने शुरू किए गए हैं। जबकि दूसरे पैराफिटों का कार्य अभी पूरा भी नहीं हुआ ठेकेदार ने दूसरी जगह भी सड़क को फाड़ना शुरू कर दिया है। इसी कार्य के दौरान नाहन टैंक से यशवंत विहार वार्ड नंबर 2 को सप्लाई होने वाले मुख्य पाइप को ठेकेदार की जेसीबी ने क्षतिग्रस्त कर दिया है।

जेसीबी ने पाइप को इस कदर उखाड़ डाला कि वहां पर दोनों साइड पाइप का नामोनिशान ही मिट गया है। जिसके चलते पिछले 3 दिनों से यशवंत विहार क्षेत्र के करीब 500 से भी अधिक घरों को पानी की सप्लाई नहीं हो पाई है।

इस बाबत जब ठेकेदार प्रताप से बात की गई तो उसका कहना है कि मैंने आईपीएच विभाग को 4 महीने पहले ही सूचना दी थी। ठेकेदार से जब पूछा गया क्या आपने लिखित में सूचना दी थी। इसके जवाब में ठेकेदार ने कहा कि नहीं मैंने मुंह जुबानी ही विभाग को कहा था।

ठेकेदार का कहना है कि परमिशन लेना मेरा काम नहीं एनएच के एक्सईएन व जेई का है। मुझे कार्य करने में देरी हो रही थी अब मशीन से फट गया तो मैं क्या कर सकता हूं। पाइप को जोड़ने की मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है।

उधर एनएच एक्सईएन अनिल शर्मा का कहना है कि इसमें हमारी कोई गलती नहीं है आईपीएच विभाग के द्वारा जब यह पाइप लाइन डाली गई थी एनएच अथॉरिटी से कोई परमिशन नहीं ली गई थी। उन्होंने कहा इनकी जहां मर्जी हुई वहां से इन्होंने पाइप डाल दिया। बावजूद इसके लोगों को परेशानी ना हो हम जल्द पाइप को जुड़वाने की कोशिश करेंगे।

अब यहां सवाल यह उठता है कि जब एक विभाग सालों के बाद यह प्रश्न उठा सकते हैं की विभाग के द्वारा एनएच से परमिशन नहीं ली गई है तो जो नाहन शहर में सड़कों के अंदर से पाइप लाइन डाली गई हैं कहीं ऐसा ना हो आने वाले समय में इन पाइपों को लेकर भी कोई विवाद खड़ा हो जाए।

उधर एसडीओ आईपीएच जितेंद्र का कहना है कि ठेकेदार के द्वारा विभाग को कोई इंटीमेशन नहीं दी गई है। अगर वह हमें समय पर बता देता तो हम अपनी पाइप को कार्य किए जाने के दौरान ही जोड़ देते। मगर अब यह दोनों सिरों से बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुकी है। जल्द ही व्यवस्था बनाए दी जाएगी।

Test