कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच हिमाचल कैबिनेट का बड़ा फैसला, इतने मार्च से मेलों के आयोजन और…

HNN / शिमला

हिमाचल प्रदेश में कोरोना के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। 15 मार्च को जहां प्रदेश में कोरोना के 757 सक्रिय मामले थे, वहीं अब यह आंकड़ा करीब 1200 पहुंच गया है। साथ ही हर दिन औसतन दो मौतें होने लगी हैं। प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर अंकुश लगाने के लिए आज मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक हुई। कैबिनेट की बैठक में प्रदेश में नो मास्क नो सर्विस नियम लागू कर दिया गया है।

वही, 23 मार्च से सांस्कृतिक- धार्मिक, कार्यक्रमों, भंडारों और मेलों पर अगले आदेश तक रोक तथा छोटे कार्यक्रमों में अधिकतम 200 लोग व इंडोर कार्यक्रमों में क्षमता के 50 प्रतिशत लोगों को आने की अनुमति दी जाएगी। कोरोना प्रभावित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा। इसके साथ ही शिक्षण संस्थानों में मामले आने पर भी कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा।

वही, प्रदेश में लोगों को जागरूक करने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। बैठक में वन विभाग में वन रक्षक के 190 पदों को भरने की मंजूरी के अलावा कुछ पुलिस पोस्ट को पुलिस चौकी और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को अपग्रेड करने का फैसला लिया गया। वहीं, विधायकों को गाड़ियों पर झंडी लगाने के लिए विधानसभा में पेश किए जाने वाले बिल पर कैबिनेट में सहमति नहीं बनी। 

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो