कोरोना के बाद स्क्रब टाइफस का खतरा, सामने आए 34 मामले

HNN/ बिलासपुर

हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बाद अब स्क्रब टाइफस बीमारी का खतरा मंडरा रहा है। प्रदेश के कई जिलों में स्क्रब टाइफस लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। बड़ी बात तो यह है कि प्रदेश में स्क्रब टाइफस से 2 लोगों की मृत्यु भी हुई है। तो वहीं दूसरी तरफ प्रदेश के जिला बिलासपुर में भी स्क्रब टायफस के लगातार मामले सामने आ रहे हैं।

जिला में अगस्त माह की बात करें तो 23 मामले सामने आए हैं जबकि सितंबर माह में अभी तक 11 मामले स्क्रब टाइफस के सामने आए है। इस संबंध में अगर विभाग के 2017 से अब तक के आंकडों पर गौर करें तो यह आंकडा काफी अधिक रहा है। जिसमें वर्ष 2017 में सौ, 2018 में सर्वाधिक 479 व 2019 मे लगभग 400 व 2020 में 77 मामले शामिल है।

उधर, बिलासपुर के जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ परविंद्र सिंह का कहना है कि स्क्रब टाइफस’ बीमारी चूहे, छछून्दर, गिलहरी आदि से फैलती है, सामान्य तौर पर चूहों के शरीर पर पाए जाने वाले जीवाणु ओरिएंटिया सुसुगैमुशी के कारण यह बीमारी होती है। इसके लक्षणों में बुखार, शरीर पर छोटे-छोटे दाने, सूख चकत्ते, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, सांस फूलना, खांसी, आदि शामिल हैं।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो