क्या ऐसे होगा विकास? : ट्रेन 18 देश की सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन पर पथराव..

नई दिल्ली: भारतीय रेल की सबसे तेज रफ्तार ट्रेन 18 पर गुरुवार को दिल्ली से आगरा के बीच परीक्षण के दौरान पत्थर फेंके गये। पथराव के दौरान ट्रेन के कोच का शीशा टूट गया। ट्रेन की स्पीड 180 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की थी जिसके बाद यह भारत की सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन बन गई है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना करने वाले हैं।

परीक्षण के दौरान जब ट्रेन ने 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ी तो ट्रेन में लड्डू बांटे गए। लोको पायलट पदम सिंह गुर्जर और उनके सहायक ओंकार यादव को सबसे पहले मिठाई दी गई। पदम सिंह ने मीठा खाने के बाद कहा, “हम इस महान अवसर का हिस्सा बनने के लिए काफी उत्साहित हैं।” यादव ने कहा, “मुझे इस ऐतिहासिक परीक्षण का हिस्सा बनने पर गर्व है।

घटना की जांच की जा रही है। रेलवे अधिकारियों को भरोसा है कि जल्द ही पथराव करने वालों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। यह ट्रेन आधिकारिक रूप से वाराणसी और दिल्ली के बीच चलेगी। यह देश की पहली इंजनलेस ट्रेन है। बताया गया कि ट्रेन 18 का तेजी से ट्रायल रन किया जा रहा है।रेलवे ट्रेन के आधिकारिक परिचालन शुरू होने के बाद इसे 160 किमी की रफ्तार से ही चलाने की इजाजत देगी। यह ट्रेन शताब्दी एक्सप्रेस को रिप्लेस करेगी। इस ट्रेन में बहुत सी अत्याधुनिक सुविधाएं हैं।

अधिकारी ने कहा, “हम एक हफ्ते में परीक्षण खत्म होने की उम्मीद कर रहे हैं और इसके बाद हम सीआरएस मंजूरी ले लेंगे।” विश्वस्तरीय सुविधाओं के साथ सुसज्जित, 100 करोड़ रुपये की ट्रेनसेट में वाई-फाई, जीपीएस आधारित सूचना प्रणाली, टच-फ्री बायो-वैक्यूम शौचालय, एलईडी लाइटिंग, मोबाइल चाजिर्ंग पॉइंट्स और क्लाइमेट कंट्रोल प्रणाली जैसी सुविधाएं दी गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *