गांव खड्ड की 14 महिलाएं मोमबत्ती बनाना सीख स्वरोजगार से जुड़ी, कमा रही आजीविका

HNN/ ऊना वीरेंद्र बन्याल

दीवाली का त्यौहार आने वाला है और रौशनी के इस पर्व पर मोमबत्तियों की अच्छी-खासी मांग रहती है। बाजार की इसी मांग को ध्यान में रखते हुए खड्ड गांव की 14 महिलाएं मोमबत्ती बनाकर आजीविका उपार्जन से जुड़ी हुई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकल फॉर वोकल के मूलमंत्र को आत्मसात कर खड्ड गांव के राधे कृष्ण स्वयं सहायता समूह की महिलाएं मोमबत्तियां बनाने के काम में जुटी हैं, ताकि इस बार दीवाली पर विदेशी सामान की बजाय स्वेदशी मोमबत्तियां व अन्य सामान बाजार में उपलब्ध करवाया जा सके, जिससे उनके जीवन में एक सकारात्मक बदलाव आ रहा है।

राधे कृष्ण स्वयं सहायता समूह खड्ड की सुनीता कुमारी बताती है कि उन्होंने दो महीने पहले कैंडल बनाने का काम शुरू किया था। जिसके लिए उन्हें पीएनबी-आरसेटी के माध्यम से 10 दिन का प्रशिक्षण भी प्रदान दिया गया। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद स्वयं सहायता समूह अच्छी गुणवत्ता वाली मोमबत्ती बना रहा है, जिसे प्रदर्शनी लगाकर बेचा जा रहा है। अब त्यौहारी सीज़न को देखते हुए उत्साहवर्धक बाजार की उम्मीद है। राधे कृष्ण स्वयं सहायता समूह में लगभग 14 महिलाएं वर्तमान में कार्य कर रही है, जो मोमबत्ती बनाने के कार्य से जुड़कर आजीविका उपार्जन कर रही हैं।

ग्रुप की कुलविंदर कौर कहती हैं कि पीएनबी आरसेटी ने हमें कैंडल बनाने के लिए दस दिन का निःशुल्क प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने कहा कि कैंडल के अलावा सर्फ आदि बनाने का कार्य भी समूह के माध्यम से किया जाता है। ब्लॉक स्तर पर भी समूह की काफी मदद की गई है, जिसके कारण स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं आजीविका कमाकर अपने घर का खर्च चलाने में सक्षम बनी हैं।

उत्पाद बिक्री के लिए ई-कॉमर्स वेबसाइट पर भी उपलब्ध
वहीं ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत प्रदेश में 27 हजार महिला स्वयं सहायता समूह कार्य कर रहे हैं, जो विभिन्न प्रकार के उत्पाद बनाने से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि जिला ऊना में स्वयं सहायता समूहों के उत्पादों को सोमभद्रा ब्रांड नेम दिया गया है। स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए उत्पादों को बाज़ार उपलब्ध करवाने के लिए ई-कॉमर्स वेबसाइट से जोड़ा गया है। प्रदेश में तैयार 51 उत्पादों को पहले चरण में एमेजॉन जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करवाया गया है, जिन्हें दुनिया भर में कहीं से खरीदा जा सकता है।

आने वाले समय में सैंकड़ों उत्पादों को इसी प्रकार से बाजार उपलब्ध करवाया जाएगा। हिमाचल प्रदेश औद्योगिक विकास निगम के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों को प्रदेश सरकार हर प्रकार से मदद प्रदान करती है। महिलाओं को एनआरएलएम की तरफ से आर्थिक मदद भी दी जाती है, जिससे वह अपना कामकाज शुरू कर सकें। उन्होंने कहा कि एनआरएलएम से जुड़कर विशेष रूप से महिलाओं को अच्छी आजिविका कमाने का मौका मिला है, जिससे उन्हें अपने घर का खर्च चलाने में काफी मदद मिली है और महिलाओं को एक अलग पहचान बनाने का अवसर भी मिला है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो