गुरु की नगरी पांवटा साहिब में धार्मिक रीति रिवाज से मनाया गया श्री गुरु तेग बहादुर सिंह का प्रकाशोत्सव

HNN / पांवटा साहिब

गुरु की नगरी पांवटा साहिब में सिखों के 9 गुरु श्री गुरु तेग बहादुर सिंह का जन्मोत्सव परंपरागत ढंग से मनाया गया। हालांकि वीकली लॉकडाउन के चलते गुरुद्वारे में कोई भी समागम, कीर्तन दरबार और नगर कीर्तन आदि आयोजित नहीं हुआ। लेकिन गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने प्रकाशोत्सव की सभी धार्मिक रीवायतें पूरी की।

श्रद्धालुओं से गुलजार रहने वाला गुरु गोविंद सिंह का यह दरबार कोरोना के चलते गुरुपर्व पर सूना रहा। यहां आज न तो आसपास के श्रद्धालु पहुंचे, न अन्य राज्यों से संगतें आई। हालांकि आज नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर सिंह जी का प्रकाश पर्व था, और श्रद्धालु श्री गुरु महाराज के चरणो में अरदास करना चाहते थे, लेकिन बढ़ते कोविड-19 संक्रमण की मजबूरियों ने श्रद्धालुओं के कदम रोक दिए।

वही, आज पांवटा साहिब में सांकेतिक रूप से मनाए गए श्री गुरु तेग बहादुर जी के प्रकाश उत्सव में एक बड़ी हस्ती ने भी दर्शन किए। पांवटा साहिब गुरुद्वारा में संत अजीत सिंह और राजा योगी नाथ जो निर्मल अखाड़ा से संबंध रखते हैं वे पहुंचे। यह दोनों संत आनंदपुर साहिब के रहने वाले हैं। मात्र 14 साल की उम्र में संत का चोला पहने वाले योगी को निर्मल अखाड़ा के द्वारा राजा की उपाधि दी गई है।

बताया जाता है कि राजा योगी यदि मुंह से किसी के लिए कोई वचन बोल देते हैं तो वह सत्य हो जाता है। कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी से बचने को लेकर राजा योगी ने भी लोगों से कोरोना प्रोटोकॉल के तहत रहने की सलाह दी है।

उधर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान सरदार हरभजन सिंह ने बताया कि इस बार कोविड-19 नियमों की बंदिशों के चलते दरबार हॉल में इक्का-दुक्का ही श्रद्धालु दिखे। वही ,तमाम दुश्वारियों के बीच यहां पहुंचे श्रद्धालु वैश्विक महामारी से जनमानस की सुरक्षा की अरदास करना नहीं भूले। श्रद्धालुओं ने श्री गुरु महाराज के चरणो में विश्वकल्याण की कामना की। साथ ही कोरोना के कुचक्र से सबकी रक्षा करने की दुआ भी मांगी।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो