चांद पर उतरने से मात्र 2.1 km ऊपर chandrayaan-2 का इसरो से संपर्क टूटा

900 करोड़ का प्रोजेक्ट प्रोजेक्ट नहीं हुआ पूरी तरह फेल। कभी भी हो सकता है संपर्क। देश को अपने वैज्ञानिकों पर है पूरा गर्व- नरेंद्र मोदी

HNN News बेंगलुरु

चांद की कक्षा में मौजूद आर्बिटर साल तक महत्वपूर्ण जानकारियां देता रहेगा जिसके लिए पूरे देश को अपने वैज्ञानिकों पर गर्व है। यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम का इसरो से संपर्क टूटने के बाद देश व देश के वैज्ञानिकों की हौसला अफजाई करते हुए कही।

बता दें कि रात्रि को पूरा देश व दुनिया भारत की होने वाली बड़ी उपलब्धि को लेकर टीवी पर चिपके बैठे थे। पूरा अभियान सफलता के साथ चल रहा था मगर मात्र 2. 1 किलोमीटर की दूरी से पहले लैंडर का इसरो से संपर्क टूट चुका था।

हालांकि वैज्ञानिकों को अभी भी पूरी उम्मीद है कि कभी भी सिग्नल मिल सकता। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसरो सेंटर बेंगलुरु में देश को संबोधन करने के लिए पहुंच चुके हैं।

अब किसी भी वाहन पर कोरोना वायरस आक्रमण नहीं कर पाएगा ।