जब पद रिक्त हुआ तभी होने थे तबादला आदेश:- दिलबरजीत

गैर शिक्षक कर्मचारी संघ ने की उपनिदेशक के साथ दुर्व्यवहार की निंदा

HNN News/ नाहन

मुख्यमंत्री कार्यालय से एक ही स्कूल में 1 पद के लिए 2 लोगों के स्थानांतरण आदेश कर दिए गए। जिसके बाद इन आदेशों को इंप्लीमेंट करवाने के लिए जिला सिरमौर उपनिदेशक उच्च शिक्षा के कार्यालय में बुधवार को श्री रेणुकाजी के विधायक विनय कुमार ने उपनिदेशक उच्च शिक्षा दिलबर जीत चंद के साथ अभद्र व्यवहार किया।

जिसके बारे में उपनिदेशक ने बुधवार सायं को पत्रकारवार्ता कर बताया कि वह 28 दिसंबर तक मेडिकल अवकाश पर थे, क्योंकि उनका एक्सीडेंट हो गया था। 30 दिसंबर को वह पांवटा साहिब में निजी स्कूल के निरीक्षण के लिए गए हुए थे। 31 को उपायुक्त कार्यालय में उपायुक्त सिरमौर के साथ बैठक थी और पेंटिंग कार्य निपटाया गया। एक पोस्ट के लिए 2 लोगों के स्थानांतरण आदेश प्राप्त हुए है।

वह राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय रजाना में पीयुन का पद है। यह पद 31 दिसंबर को ही रिक्त हुआ है। बुधवार को इस पद के लिए स्थानांतरण आदेश होने थे। मगर बुधवार सुबह ही श्रीरेणुकाजी के विधायक विनय कुमार अपने दल बल के साथ उपनिदेशक के कार्यालय पहुंचे और उन्होंने उपनिदेशक दिलबर जीत सिंह पर भाजपा के एजेंट के रूप में काम करने का आरोप लगाते हुए अभद्र व्यवहार किया।

साथ ही उनके कार्यालय में ही उनके खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जिससे सरकारी कार्य में बाधा उत्पन हुई। पत्रकारों को संबोधित करते हुए उपनिदेशक दिलबर जीत चंद ने बताया कि रजाना स्कूल में पीयुन के पद के लिए 24 दिसंबर को लक्ष्मी देवी के ट्रांसफर ऑर्डर मिले हैं। जबकि सुरेश कुमार के आर्डर 31 दिसंबर को उनके कार्यालय को प्राप्त हुए हैं। दोनों के ही ट्रांसफर आर्डर रजाना स्कूल में पीयुन के पद के लिए हैं।

उन्होंने बताया कि जब वहां पर पोस्ट ही दिसंबर की शाम को रिक्त हुआ है, तो वह इससे पहले आर्डर कैसे कर देते। क्योंकि इससे पहले भी कई स्कूलों में 1 पद पर दो लोगों के आर्डर होने से 15 – 16 केस हाईकोर्ट में चल रहे हैं। इसीलिए शिक्षा निदेशालय को दोनों आर्डर वापिस भेज दिए हैं कि अब शिक्षा निदेशक से पुन: प्राप्त आर्डर के बाद ही इस पद के लिए ऑर्डर किए जाएंगे।

बुधवार को जिला सिरमौर गैर शिक्षक कर्मचारी संघ की आपात बैठक जिला अध्यक्ष आकाश बिश्नोई की अध्यक्षता में आयोजित हुई। इस बैठक में उपनिदेशक उच्च शिक्षा दिलबर जीत चंद के साथ श्रीरेणुकाजी के विधायक विनय कुमार व उनके साथियों द्वारा की गई अभद्र व्यवहार व कार्यालय में नारेबाजी के निंदा की गई।

साथ ही सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने का मामला भी उच्च अधिकारियों के संज्ञान में लाया गया। विधायक द्वारा जिन स्थानांतरण आदेशों को ना करने की बात कही गई, उसमें 31 दिसंबर को सेवादार का पद रिक्त हुआ है और एक पद के लिए दो सेवादारों के स्थानांतरण आदेश प्राप्त हुए हैं। दोनों आदेशों को शिक्षा निदेशालय क्लेरिफ्किेशन के लिए भेजा गया है। बैठक में दीपक गर्ग, कामराज, मुकेश कुमार, मीनाक्षी, कविता, नरेश कुमार, नरेश कुमार, हुनर सिंह व पवन कुमार सहित 50 सदस्यों ने भाग लिया।

Test