जहर निगलने से नाहन के युवक की हुई मौत

HNN News नाहन

नाहन के वार्ड नंबर 4 अमरपुर मोहल्ला निवासी 31 वर्षीय सचिन की जहर निगलने से पीजीआई चंडीगढ़ में मौत हो गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बीपीएल परिवार से संबंध रखने वाले सचिन ने 25 दिसंबर यानी क्रिसमिस डे के दिन शराब के नशे में जहरीली दवा नुवान गटक ली थी।

सचिन ने इस नुवान घर पर ही निगल ली थी । उसकी बिगड़ती हालत को देख जब उसकी मां ने उसकी हालत देखी तो पूछा कि क्या किया है। सचिन ने बताया कि उसने नुवान पी ली है। जिसके बाद घर के बाप पड़ोस के कुछ लोगों ने उसे फौरन नाहन मेडिकल कॉलेज कॉलेज पहुंचाया। मगर नहान के मेडिकल कॉलेज में इंतजाम ना होने के कारण उसे पीजीआई रेफर कर दिया गया। जहां उसने 2 दिन के बाद यानी वीरवार की रात को दम तोड़ दिया।

सचिन के भांजे आकाश ने बताया कि जब हमने उससे पूछा की नुवान कहां चली थी। तो सचिन ने बताया कि नया बाजार स्थित एक बड़े दुकानदार से खरीदी थी।चूँकि सचिन पेंटर का काम करता था। पेंट के कार्य में पेंटर ओं के द्वारा नुवान को पेंट में मिलाया जाता है। इसलिए दुकानदार भी उन्हें नुवान दे देते हैं। मगर सचिन ने ना जाने किन कारणों के चलते नुवान को निगल लिया।

खबर लिखे जाने तक पुलिस के अनुसार उसका शव अभी चंडीगढ़ से नहा नहीं आया है। मामले की जांच गुन्नू घाट पुलिस चौकी के हेड कांस्टेबल विनोद कर रहे हैं। गुंघाट चौकी के अनुसार पुलिस के जवान चंडीगढ़ गए हुए हैं। शव का पोस्टमार्टम चंडीगढ़ ही होगा।

बच जाता सचिन

मृतकसचिन के परिजनों का कहना है कि जब सचिन ने जहर निगला था उसे फौरन नाहन मेडिकल कॉलेज ले जाया गया था। उन्होंने मेडिकल कॉलेज में जहर के इलाज के लिए इंतजाम ना होने का आरोप लगाते हुए कहा कि पीजीआई रेफर करने के बाद एंबुलेंस भी उपलब्ध नहीं थी। आकाश ने बताया कि एम्बुलेंस काला आम से आई थी तब गंभीर अवस्था में सचिन को पीजीआई ले जाया गया। जहां वह 2 दिन तक जिंदगी और मौत के बीच जूझता रहा। बता दें कि यह परिवार बीपीएल परिवार से संबंध रखता है। अगर मेडिकल कॉलेज में व्यापक इंतजाम होते या उसे समय पर एंबुलेंस मिल जाती संभवत सचिन की जान बच जाती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *