जिला सिरमौर को संपूर्ण स्वच्छ बनाने के लिए 80 हज़ार वॉलेंटियर की टीम तैयार

अब गांव स्तर पर भी कूड़े की सेग्रीगेशन के लिए डलवाई जाएगी ये आदत

HNN News / नाहन

जिला सरमौर में प्लास्टिक उन्मूलन के लिए चलाए गए अभियान के अब सकारात्मक परिणाम आने शुरू हो गए है। इस अभियान में स्कूली बच्चो से लेकर महिलाएं व आम लोग बढ़-चढ़ कर भाग ले रहे है। अब प्रशासन द्वारा लोगो के घर से निकलने वाला सारा कचरा एक साथ फेंकने की आदत में परिवर्तन लाने के प्रयास किए जा रहे है। ताकि घर से निकलने वाले वेस्ट को रीसाइकल किया जा सके।

इसके तहत सूखा व गीला कचरा अलग अलग करने के आलावा इ वेस्ट को भी अलग किया जा रहा है। यह सभी वेस्ट पहले पंचायत स्तर इसके बाद क्लस्टर लेवल पर इकट्ठा किया जाएगा। कूड़ा एकत्रित होने के बाद यह किसी एजेंसी को दिया जाएगा। जिले में स्वच्छता अभियान में सीएसआईआर की तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। सीएसआईआर ने अभियान के लिए कूड़े के सेग्रीगेशन व प्रोसेसिंग में प्रयोग की जाने वाली मशीनों को तकनीक प्रदान करेगा।

प्रशासन द्वारा स्कूली बच्चो को स्वच्छता की आदत डालने के लिए “एक दिन स्कूल के नाम” अभियान की शुरुआत की गई है। बच्चे महीने में एक दिन स्कूल के 500 मीटर के दायरे में आने वाले क्षेत्र को संपूर्ण स्वच्छ व पॉलीथिन मुक्त बनाएंगे। इस अभियान के दो चरण में 2031 स्कूलों के 80018 बच्चो ने सफाई कर 915 किलोमीटर क्षेत्र को पॉलीथिन मुक्त बनाया। इसके आलावा बच्चो द्वारा 4987 किलोग्राम पॉलीथिन एकत्रित किया गया व 5435 पॉलीब्रिक्स बनाई गई।

पंचायत में बनेगे कॉलेक्शन सेंटर

जिला सिरमौर की 228 पंचायतो में मिनी कॉलेक्शन सेंटर बनाए जाएंगे। गांव के घर घर से कूड़ा एकत्रित किया जाएगा। इसके बाद मिनी कॉलेक्शन सेंटर से कूड़ा क्लस्टर स्तर पर एकत्रित किया जाएगा। यहां पर पांच से छः पंचायतो को जोड़कर एक क्लस्टर बनाया जाएगा। क्लस्टर में सेग्रीगेशन के आलावा प्रोसेसिंग की मशीन लगाई जाएगी।

Test