जिला सिरमौर में अदरक की बंपर फसल, मंडियों में उचित दाम न मिलने से किसान मायूस

HNN/ नाहन

प्रदेश के सबसे बड़े अदरक उत्पादक जिला सिरमौर में इस बार अदरक की बंपर फसल तो हुई है परंतु मंडियों में किसानों को फसल के अच्छे दाम नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में किसानों के चेहरे कोरोना महामारी के इस दौर में मुरझाए हुए हैं। आपको बता दें कि जिला सिरमौर के शिलाई, रेणुका, राजगढ़ सहित अनेक क्षेत्रों में अदरक की व्यावसायिक खेती की जाती है। इस वर्ष जिला में अदरक की फसल अच्छी हुई है, लेकिन किसानों को इसके सही दाम नहीं मिल रहे हैं।

सिरमौरी अदरक ना केवल गुणवत्ता बल्कि स्वाद के लिए भी मशहूर है जिसके किसानों को मंडियों में पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष बेहद कम दाम मिल रहे हैं। अदरक आजकल 600 से 700 रुपए प्रति मन के हिसाब से बिक रहा है। जबकि पिछले वर्ष किसानों को अदरक के दाम 1000 रुपय मिले थे। स्थानीय किसानों की माने तो उन्हें अदरक बेचने के लिए पड़ोसी राज्यों का रुख करना पड़ रहा है, जहां उन्हें औने-पौने दामों पर अदरक बेचने को मजबूर होना पड़ रहा है।

उचित दाम न मिलने से उनकी आर्थिकी गड़बड़ा गई है और सरकार को इस ओर उचित कदम उठाने चाहिए। साथ ही इसका समर्थन मूल्य घोषित किया जाना चाहिए ताकि किसानों को नुकसान से बचाया जा सके। बता दें कि किसी समय पांवटा साहिब के गिरीपार क्षेत्र में उगाया जाने वाला अदरक एशिया में बेहतरीन अदरक में शूमार हुआ करता था, लेकिन समय के साथ-साथ अदरक की पारंपरिक खेती में भारी गिरावट दर्ज की गई है।

वही जो किसान अदरक की खेती कर रहे हैं उन्हें भी फसल के उचित दाम नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में किसानों की रीढ़ कहलाए जाने वाला अदरक इन दिनों किसानों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो