जिसका कोई नहीं उसकी चंबा पुलिस है यारों

65 वर्ष से ऊपर के बुजुर्गों के लिए सामुदायिक पुलिस योजना बनी वरदान, दुख व अकेलेपन के पलों को खाकी ने दिया सिरहाना

HNN News चंम्बा
हिमाचल प्रदेश पुलिस द्वारा चलाई गई विभिन्न सामुदायिक पुलिस योजनाओं में सरक्षण योजना के अन्तगर्त ऐसे वारिष्ठ नागरिक ( जो 65 वर्ष के या इससे ऊपर के ) जिनका कोई ध्यान रखने वाला ना हो , को पुलिस द्वारा इस योजना के तहत सरंक्षण दिया जायेगा ।

इस योजना के सन्दर्भ में पिछले माह से जिला चंबा पुलिस के बीट आरक्षीयों के ऐसे वारिष्ठ नागरिकों को ढूंढ निकाला और उनके साथ सम्पर्क किया गया । उन्होंने ऐसे वरिष्ठ नागरिकों से उनका कुशलखेम पूछा व उनके द्वारा केक कटवाकर, उन्हें केक खिलाकर उनके साथ समय व्यतीत किया। इसके अलावा पुलिस थाना व चौकियों में भी वरिष्ठ नागरिकों को केक खिलाकर समानित किया गया।

इसके साथ साथ सभी वारिष्ठ नागरिकों को उनकी बीट के आरक्षियों के मोबाइल नम्बर भी दिये गए हैं ताकि जब भी उन्हे जरूरत हो तो वह बीट के आरक्षियों की मदद ले सकें।

यही नहीं इन बुजुर्गों से उनके फोन नम्बर भी लिये गए हैं ताकि महीने मे कम से कम एक बार पुलिस उनसे सम्पर्क कर सके या उनसे मिल सके । इस योजना को चलाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि समाज में रह रहें ऐसे वारिष्ठ नागरिक जिनके बच्चे किसी कारण वशं घर मे न रहते हों या उनका ध्यान रखने बाला कोई न हो तो ऐसे वारिष्ठ नागरिकों की मदद की जा सके।

इस योजना के अंतर्गत ऐसे वरिष्ठ नागरिकों को अस्पताल ले जाना , दवाइयाँ पहुंचाना , बिजली पानी आदि के बिल जमा करवाना इत्यादि शामिल है । बड़ी बात तो यह है कि चंबा पुलिस की महिला जवान महिला बुजुर्गों के साथ मां बेटी जैसा रिश्ता बनाती है। जब भी इन्हें ड्यूटी से फुर्सत मिलती है फोन कर या फिर उनके पास जाकर उनका हालचाल व घर के अन्य कार्यों में सहायता भी करती है।

Test