जुन्गा क्षेत्र में टैग लगे लावारिस पशु कर रहे फसलों का नुक्सान

HNN/ शिमला 

गौवंश को सड़कों पर लावारिस छोड़ने का कार्य बदसतूर जारी है। ऐसा ही मामला बीते दिनों जुन्गा में देखने को मिला है। जिसमें कोटी क्षेत्र से गौवंश को पिकअप में लाकर जुन्गा क्षेत्र के जंगलों मेें बेसहारा छोड़ा जा रहा है। जिस बारे जुन्गा कजेवड़ा गांव के दुर्गा सिंह ठाकुर ने पुलिस चौकी जुन्गा में रिपोर्ट दर्ज करवाई तथा गौवंश को लावारिस जंगलों में छोड़ने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है।

इनका कहना है कि उनके द्वारा स्वयं एक पिकअप एचपी 63ए-7705 पकड़ी है जिसमें दो गऊओ को कोटी क्षेत्र के गांव शरेण से लाकर जुन्गा क्षेत्र में छोड़ा गया था। जिन के कान में टेग भी लगे हुए है। इनका आरोप है कि इससे पहले भी इस गाड़ी में अनेकों बार पालतु पशुओं को लाकर जुन्गा के जंगलों में छोड़ा जाता है परंतु पशु पालन, पुलिस व प्रशासन द्वारा आजतक इस बारे कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

दुर्गा सिंह ठाकुर का कहना है कि लावारिस पशु किसानों की फसलों को नुक्सान पहुंचा रहे हैं। इनका कहना है कि कोटी, जनेडघाट, मुंडाधाट इत्यादि में सड़कों पर अनेक लावारिस पशु देखे जाते हैं परंतु संबधित पंचायतों द्वारा इनके पुनर्वास के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। दुर्गा सिंह ने जिला प्रशासन से मांग की है कि जुन्गा क्षेत्र में सड़कों पर घूम रहे लावारिस पशुओं को गौशालाओं में भेजा जाए।

इसके अतिरिक्त जिन पशुओं के कान पर टेग लगे हैं उनके मालिकों के खिलाफ गौवंश एक्ट के तहत कार्यवाही करने का आग्रह किया है। पुलिस चौकी जुन्गा कार्यालय में जब इस बारे बात की गई तो उनका कहना है कि इस बारे गहनता से जांच चल रही है कि कौन व्यक्ति गाड़ियों में लाकर गौवंश को लावारिस छोड़ रहा है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो