ठंड व बारिश में 25km तक व्यवस्था बनाती है नाहन ट्रैफिक पुलिस

पहले बताती है यातायात नियम ना मानने वालों पर कसती है शिकंजा, 25 की टीम के साथ एएसआई रामलाल हर विषम परिस्थितियों में 15 घंटे ऑन ड्यूटी

HNN News नाहन

यूं तो जिला सिरमौर पुलिस प्रमुख के द्वारा पूरे जिला की ट्रैफिक व्यवस्था के लिए सबसे बेहतर व ईमानदार कर्मचारियों को नियुक्त किया हुआ है। मगर नाहन ट्रैफिक पुलिस अपनी ड्यूटी के प्रति जो डेडीकेशन विषम परिस्थितियों में भी दिखाती है वह दूसरों के लिए भी प्रेरणा स्रोत बन जाती है।

भारी बारिश में और कड़कती ठंड में दिल्ली गेट के समीप ड्यूटी पर मुस्तैद ट्रैफिक पुलिस

कड़कती ठंड और ठंड के साथ भारी बारिश में यदि ट्रैफिक जाम की स्थिति आ जाए तो आप समझ सकते हैं कि कितनी भारी परेशानी उठानी पड़ सकती है। बावजूद इसके नाहन ट्रैफिक पुलिस ना केवल यातायात को सुचारू बनाए रखने में हर वक्त मुस्तैद नजर आती है बल्कि आपदा या दुर्घटना जैसी स्थिति में घायलों को मेडिकल कॉलेज तक लाने में जरा भी बाधा उत्पन्न ना हो इसके लिए सेफ रूट भी तैयार कर देती है।

भाई साहब आप रॉन्ग साइड हैं कृपया गाड़ी हटाए

बड़ी बात तो यह है कि ट्रैफिक पुलिस का उद्देश्य राजस्व जुटाने नहीं बल्कि लोगों की सड़क सुरक्षा के साथ-साथ बेहतर ट्रैफिक व्यवस्था बनाना रहता है। यही नहीं ड्यूटी के दौरान ट्रैफिक नियमों के साथ साथ मोटर व्हीकल अधिनियम में लोगों को सड़क सुरक्षा क्लब के साथ सहयोग कर जागरूक भी करते हैं।

आप जानकर हैरान हो जाएंगे की केवल 25 पुलिस कर्मचारियों के साथ एएसआई रामलाल व लायक राम नहान से शिमला रोड की तरफ दोसड़का तक नाहन से गौशाला और पावटा रोड की और मारकंडा पुल तक करीब 25 किलोमीटर के एरिया में बेहतर ट्रैफिक व्यवस्था बनाने का प्रयास करते हैं।

यहां यह भी बताना जरूरी है कि यह टीम सुबह 8:00 बजे से लेकर शाम के 9:00 बजे तक तथा 9:00 बजे से लेकर रात्रि के 11:00 बजे तक नाका ड्यूटी भी देते हैं। कह सकते हैं कि 15 घंटे तक लगातार सड़कों की खाक छानते हुए चाहे चिलचिलाती धूप हो या फिर ठंड के साथ भारी बारिश मगर यातायात को सुचारू बनाना इनकी प्राथमिकता रहती है।

अब आपको यह भी जानकर भरोसा हो जाएगा कि ट्रैफिक पुलिस आराम परस्त नहीं बल्कि काम सशक्त है। मात्र 1 महीने में यानि दिसंबर माह में नाहन ट्रैफिक पुलिस के द्वारा 400 मैनुअल चालान तथा 550 ई चालान किए गए हैं। इन दोनों चलानों से यातायात पुलिस के द्वारा 127000 की जुर्माना राशि भी वसूली गई है।

मौजूदा समय नहान शहर में जगह-जगह विकास कार्यों को लेकर सड़कों पर खुदाई का कार्य चल रहा है। ऐसे समय में ट्रैफिक पुलिस के पर सबसे बड़ी जिम्मेवारी बच्चों के लिए स्कूल मेडिकल कॉलेज तक मरीजों को एंबुलेंस ले जाने के लिए सेफ पैसेज मिलता रहे यह सबसे बड़ी सर्दी का कार्य है। मगर बावजूद इसके बगैर किसी तनाव व सख्ती के बड़े ही नरम व शिष्टाचार के माध्यम से ट्रैफिक व्यवस्था बहाल रखी जाती है।

एचपी सिरमौर अजय कृष्ण शर्मा का कहना है कि शहर के लोग ट्रैफिक व्यवस्था बनाने में पुलिस के साथ अच्छा सहयोग भी करते हैं। लोगों में पहले की अपेक्षा अब काफी जागरूकता है। ट्रैफिक पुलिस बेहतर कार्य करें इसके लिए बाकायदा सीसीटीवी कैमरा के माध्यम से उन पर नजर भी रखी जाती है। ना केवल ट्रैफिक पुलिस के जवान बल्कि सभी पुलिस कर्मचारी पूरी मेहनत व ईमानदारी के साथ ट्रैफिक व कानून व्यवस्था बनाने में मुस्तैद रहते हैं।

Test