तंदूर कांड पर हाई कोर्ट ने जारी किए रिहाई के आदेश।

HNN News/ नई दिल्ली

हाई कोर्ट ने शुक्रवार को 1995 के तंदूर कांड मामले के दोषी कांग्रेस के पूर्व नेता सुशील कुमार शर्मा को तत्काल प्रभाव से रिहा करने के आदेश दिए हैं। वह अपनी पत्नी नैना साहनी की हत्या के मामले में जेल में बंद है।

कोर्ट ने कहा था कि किसी व्यक्ति की जिंदगी एवं आजादी पर विचार करना सर्वोपरि है और दिल्ली सरकार से पूछा गया था कि किसी व्यक्ति को तंदूर हत्याकांड के तौर पर जाना जाने वाला यह मामला भारत के ऐसे आपराधिक मामलों में से एक है जिसमें आरोपी के दोष को साबित करने के लिए डीएनए साक्ष्य और दूसरी बार पोस्टमार्टम कराने का सहारा लिया गया था।

अपनी याचिका में शर्मा ने तर्क दिया कि जेल में और परोल पर बाहर रहने के दौरान उसका आचरण अच्छा रहा और उसने कभी भी अपनी छूट का अनुचित इस्तेमाल नहीं किया।

अनिश्चितकाल तक कैसे हिरासत में रखा जा सकता है। शर्मा की याचिका के मुताबिक समय से पूर्व रिहाई के दिशा-निर्देश कहते हैं कि एक अपराध के लिए मिली उम्रकैद की सजा के दोषियों को 20 साल की सजा के बाद और घृणित अपराधों में 25 साल की सजा के बाद रिहा कर दिया जाना चाहिए।

अब शर्मा 56 वर्ष के हो चुके हैं जिन्होंने विवाहेत्तर संबंध के शक में अपनी पत्नी की 1995 में गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसके बाद उसने पत्नी के शव को टुकड़ों में काटकर रेस्तरां के तंदूर में जलाने का प्रयास किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *