धान खरीद को लेकर दून व नालागढ़ कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन

एसडीएम के माध्यम से राज्यपाल और सरकार को भेजा ज्ञापन

HNN/ बीबीएन

धान की फसल की खरीद को लेकर कांग्रेस ने हल्ला बोलते हुए केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार को किसान विरोधी करार दिया। दून कांग्रेस ने प्रदेश उपाध्यक्ष एंव पूर्व विधायक राम कुमार चौधरी और नालागढ़ कांग्रेस ने विधायक लखविंद्र राणा की अगुवाई में धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। दून कांग्रेस ने बद्दी के समीप मलपुर और नालागढ़ कांग्रेस ने विश्राम गृह नालागढ़ में प्रदर्शन के उपरांत एसडीएम महेंद्र पाल गुर्जर के माध्यम से महामहिम राज्यपाल और प्रदेश सरकार को ज्ञापन भेजा।

प्रदेश कांग्रेस उपााध्यक्ष एंव पूर्व विधायक राम कुमार चौधरी ने बताया कि निचले क्षेत्रों जिला सोलन, सिरमौर के नाहन व ऊना जिला के अलावा बिलासपुर व कांगड़ा के कुछ क्षेत्रों में धान और मक्की की फसल उगाई जाती है। पहले भी इन जिलों में किसानों की 90 फीसदी मक्की की फसल कीड़ा लगने के कारण बर्बाद हो गई। जिस पर कांग्रेस ने नुकसान का जायजा लेकर तबाह मक्की की फसल पर किसानों को समर्थन मूल्य के हिसाब से मुआवजा देने की मांग उठाई थी। लेकिन प्रदेश सरकार ने किसानों के हुए नुकसान और तबाह मक्की की फसल पर मुआवजा देने को हामी नहीं भरी।

राम कुमार चौधरी ने कहा कि अगर प्रदेश में सेब, किन्नू और आडू की फसल बर्बाद होने पर बागवानों को समर्थन मूल्य के हिसाब से मुआवजा दिया जा सकता है तो क्या फसल तबाह होने पर किसान मुआवजे के हकदार नहीं। लेकिन किसान विरोधी केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार ने एक पैसा भी नुकसान की भरपाई को नहीं दिया। राम कुमार चौधरी ने कहा कि पिछले 1 साल से किसान काले कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में डेरा लगाए बैठे हैं और हजारों किसानों ने काले कानूनों के विरोध के दौरान शहादत दी। लेकिन केंद्र की मोदी सरकार का दिल नहीं पसीजा और किसान विरोधी कृषि कानूनों को वापिस नहीं लिया गया, जिससे साफ हो जाता है कि भाजपा देश के अन्नदाता की विरोधी है।

नालागढ़ विश्राम गृह में किसानों को संबोधित करते हुए विधायक लखविंद्र राणा ने कहा कि पिछले एक महीने से तारीख पर तारीख देकर सरकार, प्रशासन और मंडी प्रबंधन किसानों को गुमराह कर रहा है। लेकिन तारीखों के बावजूद भी अभी तक मंडियों में किसानों की धान की फसल की खरीद को लेकर व्यवस्था नहीं हुई। किसान विरोधी सरकार की वजह से किसानों की धान की फसल खेतों में तैयार खड़ी है, जिसे किसान डर के मारे नहीं काट रहे। वहीं पड़ोसी राज्यों पंजाब और हरियाणा ने भी हिमाचल के किसानों के धान लेने पर प्रतिबंध लगा दिया है। पड़ोसी राज्यों में हिमाचल के परेशान किसानों पर एफआईआर दर्ज करके उनके धान की फसल से लदे ट्रैक्टर बाउंड किए जा रहे हैं।

विधायक लखविंद्र राणा ने केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार को किसानों का दुश्मन करार देते हुए कहा कि वह समय भी जल्द आ रहा है जब देश व प्रदेश का किसान और जनता इस दुश्मन सरकार को करार जवाब देते हुए सबक सिखाऐगी। इस दौरान भारी संख्या में दून व नालागढ़ कांग्रेस के नेता, ब्लॉक पदाधिकारी, युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं समेत भारी संख्या में बीबीएन के किसान उपस्थित रहे।

25 किसानों को कर दिए हैं टोकन जारी
एसडीएम नालागढ़ महेंद्र पाल गुर्जर ने बताया कि कांग्रेस के नेताओं द्वारा जो ज्ञापन राज्यपाल और सरकार को सौंपे गए हैं उन्हें भेज दिया गया है। जिन किसानों ने ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करवाई है उन 25 किसानों को टोकन जारी कर दिए गए हैं। शुक्रवार को नालागढ़ मंडी में नियमानुसार किसानों की धान की फसल की खरीद की जाएगी।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो