धान खरीद शुरू न होने को लेकर किसानों ने घेरा एसडीएम कार्यालय, जमकर किया प्रदर्शन

लंबे प्रदर्शन की तैयारी करके आए थे किसान, केंद्र व प्रदेश सरकार को जमकर कोसा

HNN/ नालागढ़

नालागढ़ में मंगलवार को धान की फसल की खरीद न शुरू होने से गुस्साए किसानों ने धरना प्रदर्शन किया। किसानों ने धान से भरे ट्रैक्टरों से पूरा एसडीएम कार्यालय घेर लिया और ट्रैक्टरों को परिसर में ही खड़ा कर दिया। जिसके बाद किसान धरने पर बैठ गए और रोष व्यक्त करते हुए सरकार तथा प्रशासन को जमकर कोसा। किसान तो लंबे प्रदर्शन की तैयारी करके आए थे लेकिन एसडीएम नालागढ़ महेंद्र पाल गुर्जर के साथ चली लंबी वार्ता और आश्वासन के बाद शाम को किसानों ने धरना समाप्त कर दिया।

किसानों का कहना था कि धान की फसल पककर कटने को तैयार है लेकिन अभी तक सरकार ने धान खरीद शुरू नहीं की है। वहीं किसानों का यह भी कहना था कि निकली हुई फसल को ज्यादा दिन रखने से धान सूख जाता है फसल आधी रह जाती है जिससे किसानों को नुक्सान उठाना पड़ता है। किसानों ने आरोप लगाया कि सरकार और प्रशासन पिछले कई दिनों से धान की फसल की खरीद को लेकर किसानों का गुमराह कर रहा है। सरकार ने 11 तरीख से फसल की खरीद शुरू करने को कहा था लेकिन अभी तक भी धान खरीदने का काम शुरू नहीं हुआ।

इस दौरान किसानों ने दर्जनों धान की फसल से भरे ट्रैक्टर एसडीएम कार्यालय परिसर के चारों और खड़े कर दिए, जिससे एसडीएम कार्यालय ट्रैक्टरों से घिर गया। ट्रैक्टरों को खड़ा करने के बाद किसान खुद कार्यालय के गेट पर धरना देकर बैठ गए। जिसके बाद एसडीएम महेंद्र पाल गुर्जर को भूमि आसन लगाकर किसानों से बातचीत करनी पड़ी। दिन भर वार्ता का सिलसिला चलता रहा लेकिन किसान मानने को तैयार नहीं थे। लंबी वार्ता और एसडीएम महेंद्र पाल गुर्जर के आश्वासन के बाद किसानों ने धरना समाप्त किया।

एसडीएम महेंद्र पाल गुर्जर ने किसानों को आश्वासन दिया कि 15 तारीख से फसल खरीद शुरू कर दी जाएगी। जिसके लिए किसान ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करवा लें। लेकिन किसानों का कहना था कि ऑनलाईन रजिस्टे्रशन का काम मंडी स्टाफ द्वारा किया जाना चाहिए। जिस पर एसडीएम ने मार्केट कमेटी के समक्ष ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन का मसला उठाने की बात कही। किसान नेता गुममुख सिंह तथा चानन सिंह ने कहा कि फसल खरीद न होने के कारण किसान परेशान है।

जब किसान मंडी पहुंचे तो वहां पर धान फसल की खरीद की कोई व्यवस्था नहीं थी। किसान नेताओं ने केंद्र व प्रदेश सरकार को जमकर कोसते हुए नारेबाजी भी की और कहा कि एक महीने से किसानों को फसल खरीद को लेकर गुमराह किया जा रहा है। किसान नेताओं ने कहा कि वह लंबे प्रदर्शन की तैयारी करके आए थे, लेकिन एक बार एसडीएम महेंद्र पाल गुर्जर के आश्वासन पर वह मौका देने के लिए तैयार हुए हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब-हरियाणा ने हिमाचल के किसानों की फसल खरीदने पर रोक लगा दी है। जिसके चलते अब किसान कठोर फैसले लेने को मजबूर हो गए हैं।

किसानों ने इस दौरान चेतावनी भी दी कि अगर 15 तरीख से फसल खरीद का काम शुरू नहीं होता तो किसान ट्रालियो में भरकर धान लाएंगे और एसडीएम कार्यालय में ढेर लगा दिए जाएंगे। एसडीएम महेंद्र पाल गुर्जर ने बताया कि धान की फसल की खरीद 15 तारीख से शुरू कर दी जाएगी। लंबी वार्ता के बाद किसानों को जो समय दिया गया है उसी तय समय में धान की फसल की खरीद शुरू कर दी जाएगी, किसानों को किसी भी प्रकार की दिक्कत पेश नहीं आने दी जाएगी, इसके लिए व्यवस्था की जा रही है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो