धोखाधड़ी मामला/ अमिल मन्हास की जमानत याचिका पर सुनवाई फिर टली, पत्नी पर फैसला सुरक्षित

HNN News/ शिमला

हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट में धोखाधड़ी के आरोपी पूर्व डीजीपी के बेटे अमिल मन्हास की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई 29 नवंबर तक टल गई। जबकि बहू हरप्रिया मन्हास की अग्रिम जमानत याचिका पर लंबी बहस के पश्चात कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया।

जस्टिस अनूप चिटकारा के समक्ष दोनों याचिकाओं पर सुनवाई हुई। दोनों ही आरोपियों पर राज्य सतर्कता व भ्र्ष्टाचार निरोधक ब्यूरो थाना ऊना में भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 465, 467, 471 और 34 व इन्फॉर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी अधिनियम की धारा 61 के तहत 5 सितंबर को प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

गौरतलब है कि ऑडिट के दौरान पाया गया था कि शराब की फर्मों के लाइसेंस धारक रोहित कुमार द्वारा जमा किये गए ई-चालान का सत्यापन नहीं हो पा रहा है। सत्यापन के लिए सौंपे गए ई चालान भी फर्जी पाए गए।

जांच में यह भी पाया गया है कि अमिल मन्हास द्वारा दिया गया चेक बाउंस हो गया। ज्ञात रहे कि ऊना में एक्साइज विभाग के साथ शराब की 2 फर्मों द्वारा करीब 2 करोड़ 63 लाख की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। इस मामले में एक्साइज विभाग ने विजिलेंस में मामला दर्ज करवाया है।