नगर परिषद नालागढ़ में मनोनीत पार्षदों की नियुक्ति पर बवाल

महिला मोर्चा अध्यक्ष व मंडल पदाधिकारियों ने जिलाध्यक्ष व नेताओं को किया कटघरे में खड़ा

HNN/ नालागढ़

नगर परिषद नालागढ़ में हाल ही में प्रदेश सरकार द्वारा की गई मनोनीत पार्षदों की नियुक्तियों पर बबाल खड़ा हो गया है। पार्टी के ही कुछ पदाधिकारियों ने जिलाध्यक्ष व नेताओं पर गंभीर आरोप जड़े हैं। नालागढ़ में पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए महिला मोर्चा की अध्यक्ष अर्चना पंडित, मंडल कोषाध्यक्ष ओंकार गुप्ता, सह संयोजक हरि ओम सांख्यान व दीपक शर्मा ने कहा कि नालागढ़ नगर परिषद के द्वारा मनोनीत पार्षदों के गलत तरीके से और संगठन की अवहेलना करके चयन किया गया।

पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश भाजपा संगठन ने पूरे प्रदेश में हर मंडल से नगर पंचायत, नगर परिषद और नगर निगम से पार्षदों के मनोयन के लिए नामावली मंगवाई थी। उसी कड़ी में नालागढ़ मंडल द्वारा मनोनीत पार्षदों के लिये संगठन के निर्देशानुसार 8 नाम भेजे थे। लेकिन षडय़ंत्र की रचना करते हुए , नालागढ़ मंडल को, नालागढ़ भाजपा नेता व पूर्व विधायक केएल ठाकुर और हजारों कार्यकर्ताओं को कमजोर करने के लिये हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के ओएसडी शिशु धर्मा व जिलाध्यक्ष आशुतोष वैद्य ने षडय़ंत्र रचते हुए नालागढ़ मंडल द्वारा भेजी गई सूची को मुख्यमंत्री कार्यालय से ही निजी स्वार्थों की पूर्ति के लिए गायब करवा दिया गया।

परिणामस्वरूप नालागढ़ भाजपा के जिन समर्पित कार्यकर्ताओं ने 1952 के बाद पहली बार नगर परिषद में पूर्णत: भाजपा समर्पित कमेटी बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उन सभी कार्यकर्ताओं पर ओएसडी शिशु धर्मा व जिलाध्यक्ष आशुतोष वैद्य ने कुठाराघात किया। पिछले कल जब नालागढ़ भाजपा के कार्यकर्ताओं ने और मंडलाध्यक्ष ने शिशुधर्मा से संपर्क किया तो बजाए अपनी गलती मानने के शिशुधर्मा ने मंडलाध्यक्ष और कार्यकर्ताओं के साथ बेरुखी से और तल्खभाषा में बात की। साथ ही उन्होंने अपनी गलती छुपाने के लिये यहां तक बोल दिया कि नालागढ़ मंडल से मनोनीत किये जाने वाले पार्षदों की सूची हमें प्राप्त नही हुई।

महिला मोर्चा अध्यक्ष व मंडल नेताओं ने कहा कि इस विषय को लेकर हमारी बात प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप से हुई। उन्होंने माना कि नालागढ़ में मनोनीत पार्षदों का चयन गलत हुआ। इसी विषय को लेकर प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से चर्चा कर चुके हैं। हम पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता हैं और अलग अलग दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं। अर्की उपचुनाव और 2022 के विधानसभा चुनाव निकट हैं और ऐसे समय पर पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ताओं के साथ हो रही अनदेखी पर ना केवल हम बल्कि हजारों कार्यकर्ता निराश और हताश हैं।

अगर शिशुधर्मा जैसे, उच्चपदों पर बैठे लोग पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा नही सकते, तो उनको मनोबल गिराने का भी कोई अधिकार नहीं है। हमें अपने संगठन पर पूर्ण विश्वास है और हम आशा करते हैं कि शीर्ष नेतृत्व भाजपा मंडल नालागढ़ के कार्यकर्ताओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए और संगठन को सर्वोपरि रखते हुए नालागढ़ मंडल द्वारा भेजी गई सूची के अनुरूप पुन: मनोनीत पार्षदों का चयन करें। अन्यथा हम भाजपा कार्यकर्ता सामूहिक रूप से इस्तीफा मंडलाध्यक्ष को सौंपेंगे।

नालागढ़ मंडलाध्यक्ष का जो अपमान शिशुधर्मा द्वारा किया गया है उसको भाजपा मंडल का कोई भी कार्यकर्ता सहन नही करेगा। अगर शिशुधर्मा ने माफी नही मांगी तो मजबूर होकर भाजपा के कार्यकर्ताओं को शिशु धर्मा का पुतला जलाना पड़ेगा।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो