नाहन/ ठाकुर समर्थितHGTU ने सेवानिवृत्ती पार्टी परमिशन को ठहराया जायज

S&op गाइडलाइन के अनुसार ही दी है परियोजना अधिकारी ने पार्टी की परमिशन -राजीव ठाकुर

HNN News नाहन

राजीव ठाकुर समर्थित जिला सिरमौर राजकीय अध्यापक संघ ने डाइट के प्रिंसिपल द्वारा शारीरिक शिक्षक संघ को सेवानिवृत्त अधिकारी की विदाई पार्टी को दी गई परमिशन को सही ठहराया है।

संघ के जिला अध्यक्ष राजीव ठाकुर महासचिव वीरभद्र नेगी वरिष्ठ उपाध्यक्ष देवदत्त सैनी सहित तमाम पदाधिकारियों ने संयुक्त बयान जारी करते हुए हरदेव ठाकुर समर्थित कथित एच जी टी यू इकाई को ही सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है।
राजीव ठाकुर का कहना है कि अधिकारी द्वारा अनलॉक प्रक्रिया की गाइडलाइन के अनुसार ही सेवानिवृत्त अधिकारी को सम्मानित करने तथा उनकी विदाई हेतु रखी गई पार्टी की परमिशन दी गई है।

राजीव ठाकुर का कहना है कि सेवानिवृत्त ग्रेड वन महिला अधिकारी सामाजिक सरोकारों के साथ-साथ एक ईमानदार व कर्मठ कर्मचारी रही है। ऐसे में उनको तमाम संगठन व शिक्षा विभाग सम्मानजनक नजरों से देखता है। अब अगर जिला सिरमौर राजकीय शारीरिक शिक्षक संघ उन्हें सम्मानजनक तरीके से विदाई समारोह आयोजित करता है तो एच जी टी यू जिला सिरमौर इसका स्वागत करता है। उन्होंने कहा कि कुछ स्वयंभू नेता बेवजह नई रवायतों को जन्म दे रहे हैं। जोकि केवल राजनीतिक प्रेरित गतिविधि है जिसे संघ बर्दाश्त नहीं करेगा।

उन्होंने कहा कि सर्व शिक्षा अभियान डाइट के परियोजना अधिकारी एक ईमानदार व्यक्ति हैं और उनके द्वारा नियम अनुसार दी गई परमिशन को गलत ठहराया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है।

गौरतलब हो कि एलीमेंट्री विभाग ग्रेट वन अधिकारी की कोविड-19 के दौरान सेवानिवृत्ति हुई थी। सेवानिवृत्त अधिकारी शिक्षा विभाग में बेहद ईमानदार छवि के रूप में जानी जाती हैं। उनकी रिटायरमेंट को लेकर जिला सिरमौर राजकीय शारीरिक शिक्षक संघ के द्वारा उन्हें उनकी प्रशंसनीय सेवाओं को लेकर सम्मानित किए जाने का कार्यक्रम बनाया गया था।

जिसके तहत उन्हें आज बीआरसी हॉल में सम्मानित किए जाने हेतु निमंत्रण दिया गया है। निमंत्रण को लेकर हरदेव ठाकुर समर्थित अध्यापक संघ जिला सिरमौर ने आपत्ति दर्ज करते हुए पार्टी हेतु रखी के परमिशन को गलत ठहराया था। मगर अब राजीव ठाकुर समर्थित जिला सिरमौर राजकीय अध्यापक संघ फिजिकल टीचर संघ के समर्थन में उतर आया है।

बरहाल जिला सिरमौर में दोनों शिक्षक संघ अपने-अपने दावे प्रबल करते हैं कौन जायज है कौन सा नाजायज यह तो मालूम नहीं मगर इतना जरूर है ईमानदार अधिकारी को सम्मानित किया जाना कोई गलत कार्य नहीं है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो