नाहन बस स्टैंड में अनुसूचित जाति एवं जनजाति संयुक्त मोर्चा ने जमकर की नारेबाजी

डीसी सिरमौर को ज्ञापन सौप पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल

HNN / नाहन

शिलाई क्षेत्र की दलित समुदाय की एक युवती के साथ हुए बलात्कार मामले को लेकर सोमवार को दलित समुदाय के अलग-अलग संगठनों ने संयुक्त रूप से जिला मुख्यालय नाहन स्थित बस स्टैंड में जोरदार प्रदर्शन किया। दलित समुदाय के लोगों ने मांग की है कि पीड़िता को जल्द से जल्द इंसाफ दिया जाए और आरोपी को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए ताकि ऐसे मामले भविष्य में ना हो। भीम सेना हिमाचल प्रदेश के अध्यक्ष रवि कुमार ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि आज दलित समुदाय के लोगों पर लगातार अत्याचार बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि शिलाई क्षेत्र में हुई घिनौनी घटना के बाद पुलिस द्वारा पीड़िता के साथ किए गए अभद्र व्यवहार को लेकर दलित समुदाय सड़कों पर उतरा है। उन्होंने मांग की है कि जल्द से जल्द पीड़िता को इंसाफ दिलाने के लिए मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में की जाए। उन्होंने कहा कि आज लगातार दलित समुदाय के लोगों पर अत्याचार बढ़ रहे हैं जिसको लेकर प्रदेश सरकार को कदम कड़े कदम उठाने चाहिए। वही , अनुसूचित जाति जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष वीर सूख ने कहा शिलाई क्षेत्र में दलित लड़की के साथ हुए बलात्कार मामले में आरोपी को गिरफ्तार करने में शिलाई पुलिस ने लापरवाही बरती है।

उन्होंने कहा कि पुलिस ऐसे मामलों को लेकर सुस्त रवैया अपनाती है जिसके चलते आरोपी फरार होने में कामयाब होते हैं। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि ऐसी घिनौनी घटनाओं में शामिल आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने के लिए पुलिस को सख्त कदम उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि आज दलित समुदाय की बहू बेटियां माताएं बहने सुरक्षित नहीं है लगातार दलित समुदाय के लोगों पर अत्याचार बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि दलित समुदाय के लोगों पर होने वाले अत्याचारों को लेकर संबंधित विभाग व जिला प्रशासन भी सुस्त रवैया अपनाता है जिसके चलते ऐसे लोगों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं और लगातार दलित समुदाय के लोगों पर अत्याचार की घटनाएं सामने आ रही हैं। उन्होंने कहा कि शिलाई दुष्कर्म मामले में भी पीड़िता द्वारा दी गई शिकायत को संबंधित पुलिसकर्मी ने फाड़ दिया जो एक बेहद ही शर्मनाक घटना है।

उन्होंने पुलिस अधिकारियों से मांग करते हुए कहा कि पीड़िता की शिकायत फाड़ने वाले कर्मी को तुरंत प्रभाव से निलंबित करने की मांग की है। उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री से मांग करते हुए कहा कि दलित समुदाय के लोगों पर होने वाले अत्याचारों के मामले की फास्ट ट्रेक कोर्ट में ही सुनवाई की जाये ताकि जल्द से जल्द दलित समुदाय के लोगों को इंसाफ मिल सके।

उधर जिला सिरमौर पुलिस कप्तान ओमापति जम्वाल ने कहा है कि मामले में अभियुक्त गिरफ्तार किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि इस पूरे प्रकरण को लेकर के जांच का जिम्मा पांवटा साहिब डीएसपी को सौंपा गया है। उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस ने इस मामले को पूरी गंभीरता के साथ ही लिया है और फरार अभियुक्तों के फोटो जारी किए गए थे और अब उनकी गिरफ्तारी भी की जा चुकी है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो