नाहन में ब्रांडेड देशी घी में जहरीला तत्व


HNN News/ नाहन

सिरमौर के ददाहू में एक ब्रांडेड कंपनी के देसी घी में स्वास्थ्य के लिए खतरनाक कोलतार रंग पाया गया है। यह केमिकल घी को पीला करने के लिए मिलाया गया। कंपनी और विक्रेता दोनों के खिलाफ अदालत में केस दायर करने की तैयारी है। इसकी औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं। कंपनी के देसी घी में वेजिटेबल ऑयल के भी अंश पाए गए हैं। घी गोपाल कृष्ण ब्रांड के नाम से बेचा जा रहा था।

सैंपल की जांच रिपोर्ट आने के बाद खाद्य सुरक्षा विभाग ने महाराष्ट्र की कंपनी के उत्पाद की बिक्री पर रोक लगाकर बाजार से स्टॉक वापस मंगवा लिया है।

विभाग के जिला अभिहित अधिकारी अतुल कायस्था ने बताया कि देसी घी में अत्यधिक मात्रा में कोलतार कलर मिला है। यह रंग बेहद खतरनाक है। इसका लगातार सेवन कैंसर के अलावा किडनी से संबंधित बीमारियों का कारण हो सकता है। इसके अतिरिक्त मनुष्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी कम कर सकता है। सैंपल फेल होने के पश्चात महाराष्ट्र की कंपनी के इस देसी घी को असुरक्षित घोषित कर दिया है। इसकी बिक्री पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

खाद्य सुरक्षा विभाग ने कुछ माह पहले ददाहू से एक ब्रांडेड कंपनी के देसी घी के सैंपल भरे गए थे। प्रयोगशाला जांच में खुलासा हुआ कि इस घी में कोलतार नामक खतरनाक रंग का मिश्रण है। इस रंग का लगातार सेवन स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। खाद्य सुरक्षा विभाग ने इस तरह के रंग के इस्तेमाल पर पहले ही प्रतिबंध लगाया है।

कुछ समय पहले कुकिंग मीडियम ऑयल के सैंपल भी फेल हुए थे। इसमें भी कोलतार नामक खतरनाक रंग पाया गया था। इसके अलावा इस साल डेयरी के घी, रिफाइंड, मलका दाल का भी सैंपल फेल हुआ है।

अतुल कायस्था ने बताया कि अतिरिक्त उपायुक्त की अदालत में इन्हें क्रमश: 20, 60 और 20 हजार रुपये का जुर्माना हुआ है। असुरक्षित घोषित देसी घी और कुकिंग मीडियम ऑयल की निर्माता कंपनी, विक्रेताओं पर अदालत में केस चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *