पिता ने लगाए दामाद व ससुरालियों पर बेटी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप

90 एम्लूडिपाईन की गोलियां निगलने से विवाहिता ने तोड़ दिया था दम

HNN/ बरोटीवाला

पुलिस थाना बरोटीवाला के तहत पिता ने दामाद व ससुरालियों पर बेटी को आत्महत्या के लिए उकसाने और प्रताडि़त करने के आरोप लगाए हैं। बेटी के मोबाईल, ईमेल और दामाद के फ्लैट से मिले रहस्यमयी सबूतों के बाद पिता ने दामाद व ससुरालियों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। वहीं बेटी की मौत के बाद अब दामाद अपने ससुर व उसके परिवारवालों को जान से मारने की धमकियां दे रहा है।

पुलिस ने पिता की शिकायत के आधार पर आईपीसी की धारा 306 व 34 के तहत मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। पुलिस थाना बरोटीवाला में दर्ज शिकायत में अजय कुमार सिंह पुत्र राम बालक निवासी शिमला ने बताया कि इसकी बेटी पूर्णिमा की शादी 10 जुलाई 2016 को कुमार गौरव पुत्र कृष्ण नंदन निवासी गांव मोरतर, जिला बेगुसराय बिहार से हुई थी। वर्ष 2018 से इसकी बेटी और दामाद सेंसीवाला बरोटीवाला में रह रहे थे।

इस दौरान इसके दामाद का भाई सौरव उर्फ डीके भी यहां गांव से नौकरी के लिए आ गया और नौकरी लगने के बाद इनके साथ ही रहने लगा। 19 जुलाई 2021 को इसकी बेटी के देवर कुमार सौरव की शादी भी बिहार में हो जाती है और वह अपनी पत्नी ज्योति और बहन प्रिती देवी तथा दो बच्चे इसके दामाद के साथ ही रहने लगते हैं। 10 अगस्त 2021 को कुमार सौरव की बहन प्रिती देवी व बच्चे अपने घर वापिस चले जाते हैं।

जिसके बाद 14 अगस्त 2021 की सुबह इसका दामाद इसकी बेटी पूर्णिमा को बुक्रलिन हॉस्पिटल झाड़माजरी में दाखिल करवाता है और ईलाज के दौरान पता चलता है कि 13 अगस्त की रात इसकी बेटी ने 90 गोलियां एम्लूडिपाईन की निगल लीं। जिसके बाद इसकी बेटी को सांस लेने में दिक्कत होने के चलते सेक्टर 32 चंडीगढ़ में रेफर किया जाता है जहां 22 अगस्त को इसकी बेटी की मौत हो गई।

दिनांक 24 अगस्त को जब यह अपनी बेटी के घर सैंसीवाला बरोटीवाला में गया तो इसे पता चला कि इसका दामाद व उसका भाई घर में कुछ छानबीन करके इसकी बेटी का लैपटॉप तथा अन्य सोने के जेबरात लेकर अपने पैतृक घर बिहार भाग गया है और घर की चाबी पड़ोसियों को देकर गया। जबकि 25 अगस्त को इसकी दामाद से बात हुई थी कि बेटी की अस्थियां प्रवाह करनी है लेकिन वह बिना अस्थी प्रवाह के ही भाग गया। इसके बाद इसने अपनी बेटी के मोबाईल की छानबीन कि जिसमें से इसे कुछ रहस्मयी सबूत मिले जो इसकी बेटी की मौत का कारण है।

1 सितंबर 2021 को इसका दामाद इन्हें फोन करके इसे व इसके परिवार को जान से मारने की धमकियां देता है गाली-गलौच करता है। मोबाईल से मिली जानकारी के अनुसार इसे शक है कि इसकी बेटी और उसके देवर कुमार सौरव के बीच आपस में कुछ चल रहा है और बेटी ने देवर कुमार सौरव को ईमेल भी भेजी है। ईमेल से प्रतीत होता है कि पूर्णिमा और कुमार सौरव के संबंध के बारे में इसके दामाद कुमार गौरव, देवर की पत्नी ज्योति व देवर की बहन प्रिती देवी को लग गई थी।

जिस कारण यह सभी मिलकर इसकी बेटी पूर्णिमा की हत्या करने लिए अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए उसे प्रताडि़त करने लगे। इसकी बेटी इन सब के बीच अकेली पड़ गई और इनकी प्रताडऩना से तंग होकर उसने सुसाईड कर लिया। इसकी बेटी पूर्णिमा की एक छोटी 4 वर्ष की बेटी है जो कि अब इनके पास है। पिता ने पुलिस की दी शिकायत में कहा कि यह मामला आत्महत्या का है या फिर हत्या का इसकी जांच होना अति आवश्यक है ताकि सारा सच सामने आ सके।

डीएसपी बद्दी नवदीप सिंह ने बताया कि पुलिस ने पिता की शिकायत और पुलिस को दिए साक्ष्यों के आधार पर आईपीसी की धारा 306 व 34 के तहत मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो