पोर्टमोर को छात्रा शिक्षा के लिए प्रमुख संस्थान के रूप में विकसित किया जाएगाः मुख्यमंत्री

HNN News/शिमला

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (छात्रा) पोर्टमोर शिमला को छात्रा शिक्षा के लिए राज्य का प्रमुख संस्थान बनाने के लिए हर सम्भव प्रयास करेगी।

लड़कियों की शिक्षा पर बल देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें अपनी इच्छानुसार जीवन जीने के लिए शिक्षा उन्हें सशक्त बनाने का सबसे बेहतर माध्यम है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा महिलाओं को उनके कार्य में और अधिक सृजनात्मक बनाने में मद्द करती है। उन्होंने कहा कि महिलाओं में कौशल, सूचना, प्रतिभा तथा आत्मविश्वास होता है जिसकी उन्हें एक बेहतर मॉ कर्मचारी अथवा नागरिक बनने की आवश्यकता होती है।

उन्होंने कहा कि हमारे देश में लगभग आधी आवादी महिलाओं की है। उन्होंने कहा कि पोर्टमोर जैसे शिक्षण संस्थान इस दिशा में तथा महिला सशक्तिकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

जयराम ठाकुर ने विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली पुरस्कार विजेता छात्राओं को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस पाठशाला की छात्राओं ने विभिन्न क्षेत्रों में नाम अर्जित किया है जो संस्थान के लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि पोर्टमोर की छात्राओं ने अपने संस्थान का नाम रोशन किया है।

उन्होंने इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाली छात्राओं को अपनी एच्छिक निधी से 51000 रुपये की घोषणा की। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने पाठशाला में आधुनिक पुस्तकालय तथा बहुद्देशीय जिम्नेज़ियम का उदघाटन किया। उन्होंने स्कूल परिसर में मॉ सरस्वती की प्रतिमा का अनावरण भी किया।

मुख्यमंत्री को इस अवसर पर स्कूल के एनएसएस द्वारा 31000 रुपये का ड्राफ्ट भेंट किया गया। उन्होंने स्कूल के पुराने विद्यार्थियों को सम्मानित किया जिनके नाम अखण्ड शिक्षा ज्योति मेरे स्कूल से निकले मोती कार्यक्रम के तहत स्कूल सम्मान बोर्ड पर नाम अंकित हैं। उन्होंने इस अवसर पर मेधावी विद्यार्थियों को पुरस्कार भी वितरित किए।

स्कूल के प्रधानाचार्य नरेन्द्र सूद ने मुख्यमंत्री तथा उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया। उन्होंने स्कूल की वार्षिक रिपोर्ट भी पढ़ी। उन्होंने कहा कि पोर्टमोर आवासीय सुविधायुक्त राज्य का पहला छात्रा विद्यालय है। उन्होंने छात्राओं के लिए नए आवास खण्ड के निर्माण के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह किया।

शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, शिमला नगर निगम की महापौर कुसुम सदरेट, शिक्षा सचिव डॉ अरूण शर्मा, राज्य लोक सेवा आयोग की सदस्य डॉ रचना गुप्ता, उपमहापौर रकेश शर्मा, उपायुक्त अमित कश्यप, स्कूल प्रबन्धन समिति के अध्यक्ष रामेश्वर दत्त संयुक्त निदेशक एवं पाठशाला की पूर्व छात्रा अर्जुन पुरस्कार विजेता सुमन रावत मैहता, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी प्रभा राजीव, स्कूल की सह प्रधानाचार्य शालिनी तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर मौजूद रहे।

अब किसी भी वाहन पर कोरोना वायरस आक्रमण नहीं कर पाएगा ।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *