प्रदेश में इस बार इतने फीसदी कम बरसे बादल

मूसलाधार बारिश से सिरमौर जिले में जन जीवन अस्त-व्यस्त

HNN News / शिमला

प्रदेश में इस साल मानसून सीजन के दौरान कम बारिश हुई है। जिससे मैदानी इलाको में गर्मी से लोगो की परेशानिया बढ़ रही है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने 25 सितंबर के बाद हिमाचल से मानसून विदा होने की संभावना जताई है। हालांकि आने वाले दिनों में हल्की बारिश के ही आसार हैं। एक जून से 10 सितंबर तक सूबे में सामान्य से 11 फीसदी कम बरसात रिकॉर्ड की गई है।

कुल्लू, शिमला, ऊना और बिलासपुर जिलों में हालांकि सामान्य से ज्यादा बारिश रिकॉर्ड हुई है, लेकिन सात जिलों में बादल ज्यादा नहीं बरसे। उधर, करीब एक सप्ताह से बारिश न होने के कारण सूबे के कई इलाकों में उमस बढ़ गई है।

मौसम विभाग शिमला से जानकारी के अनुसार पता चला है कि प्रदेश में अभी तक 620 मिलीमीटर बारिश हुई है, जबकि इस अवधि के दौरान 696 मिलीमीटर बारिश को सामान्य माना गया है। साल 2018 के दौरान मानसून सीजन में एक जून से 30 सितंबर तक 927 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड हुई थी। बीते साल प्रदेश में सामान्य से 21 फीसदी ज्यादा बादल बरसे थे। साल 2017 में सामान्य से 6 फीसदी कम बारिश हुई थी।

हालांकि, बिलासपुर में सामान्य से 27, हमीरपुर में 11, कुल्लू में 17, शिमला में 5 और ऊना में 7 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है। लेकिन चंबा में सामान्य से 44, कांगड़ा में 24, किन्नौर में 47, लाहौल-स्पीति में 50, मंडी में 12, सिरमौर में 25 और सोलन मेें 19 फीसदी कम बारिश हुई है।