प्रदेश सरकार और डीएफओ नाहन ने किया है हिमाचल निर्माता का अपमान – सोलंकी

वन मंत्री और डीएफओ नाहन पर सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग

HNN / नाहन

हिमाचल निर्माता डॉ. यशवंत सिंह परमार की जयंती पर नाहन कांग्रेस के द्वारा पौधारोपण किए जाने के कार्यक्रम पर रोक लगाने को लेकर मुद्दा गर्मा गया है। कांग्रेस भवन नाहन में आयोजित पत्रकार वार्ता में प्रदेश कांग्रेस कमेटी महासचिव अजय सोलंकी ने डीएफओ नाहन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। यही नहीं सोलंकी ने आरोप लगाया कि वन मंत्री ने फोरेस्ट कर्मचारियों को पौधोरोपण के लिए इजाजत देने को लेकर उन्हें ट्रांसफर की धमकी भी दी।

उन्होंने कहा कि डॉ. परमार के नाम पर मंडल कांग्रेस नाहन द्वारा चाकली पंचायत के राहौर (निहोग) में तीन दिन पहले ही वन विभाग से परमार जयंती पर पौधोरोपण की अनुमति ली थी। उन्होंने बताया कि वन विभाग द्वारा जमीन चयनित कर वहां पहले से गड्ढे भी किए गए थे। उन्होंने बताया कि नाहन में डॉ. परमार क प्रतिमा पर माल्यापर्ण किए जाने के बाद ग्रामवासियों के द्वारा रखे गए पौधारोपण कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए वे निहोग पहुंचे।

उन्होंने बताया कि इस दौरान न तो उन्होंने किसी तरह का कोई पोस्टर लगाया था और न ही उनके पास कांग्रेस का कोई बैनर आदि था। बावजूद इसके जैसे ही उनके द्वारा पौधारोपण शुरू किया गया, तो वहां एक फोरेस्ट अधिकारी ने आकर अपनी नौकरी के चले जाने का हवाला देते हुए पौधारोपण से रोक दिया। उसने हाथ जोड़ते हुए कहा कि उन्हें डीएफओ साहब के सख्त आदेश हैं कि वन विभाग की जमीन पर पौधारोपण न करवाया जाए। सोलंकी ने बताया कि विभाग में उनके सूत्र ने बताया कि वन मंत्री के द्वारा मौके पर स्थित वन विभाग के कर्मचारियों को यह कहकर धमकाया कि तुम डॉ. बिंदल के खिलाफ काम कर रहे हो।

सोलंकी ने कहा कि वन मंत्री ने उन्हेंं इसको लेकर सभी को ट्रांसफर किए जाने की धमकी दी। इसके बाद वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने दबाव में आकर वहां तार बाढ़ खींचते हुए पौधारोपण से मना कर दिया। इस घटना को लेकर मौके पर काफी उत्पात भी हुआ और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी हुई। सोलंकी ने बताया कि उन्होंने डीएफओ को इस घटना को लेकर कई बार फोन किया, मगर उनका फोन नॉट रिचेबल था। इसके बाद डीसी सिरमौर के फोन पर भी यही स्थिति थी। मगर उनके पीएसओ को फोन कर डीसी साहब से बात की गई।

उपायुक्त ने इस मामले को लेकर स्पष्ट रूप से कहा कि किसी ने भी उन्हें पौधोरोपण से नहीं रोका है आप पौधारोपण कर सकते हैं। उन्होंने उपायुक्त का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनके आश्वासन के बाद ही पौधोरोपण किया गया। मगर प्रेस वार्ता में उन्होंने यह स्पष्ट कर दिया कि प्रदेश सरकार इस मामले की जांच करवाएं और डीएफओ नाहन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए उसे सस्पेंड किया जाए। यही नहीं अगर वन मंत्री के द्वारा अधिकारियों को इस पवित्र कार्य के लिए रोका व धमकाया गया तो वह इसका स्पष्टीकरण देें और माफी भी मांगे।

वार्ता में जिला कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रुपेंद्र ठाकुर, पार्षद राकेश गर्ग, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नरेंद्र तोमर, यूथ कांग्रेस नेता सुमित, विपुल शर्मा, शेरजंग, अंकुर चौहान, मनीराम पुंडीर, विनिश राणा, जबर सिंह चौहान, ज्ञान चंद, गुरदयाल सिंह सहित उपस्थित थे।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो