प्रवासी पक्षियों से गुलजार हुई पौंग झील, 78 प्रजातियों के पहुंचे परिंंदे

HNN/ कांगड़ा

कांगड़ा जिला के पौंग बांध क्षेत्र में हर साल की तरह इस साल भी प्रवासी पक्षियों ने डेरा जमा लिया है। बता दें कि यहां चीन, साइबेरिया, ऑस्ट्रेलिया, नाइजीरिया, दक्षिण अफ्रीका और मंगोलिया से कई प्रजातियों के प्रवासी पक्षी हज़ारों की संख्या में अक्टूबर से आना शुरू कर देते है। अभी पौंग बांध क्षेत्र में 78 प्रजातियों के 34465 विदेशी परिंदे पहुंच चुके हैं।

धीरे-धीरे नवंबर तथा दिसंबर महीने में पक्षियों की संख्या लाखों में हो जाएगी, जबकि पिछले वर्ष 96 प्रजातियों के एक लाख आठ हजार के करीब प्रवासी पक्षियों ने दस्तक दी थी। इस बार अभी तक पौंग झील में बारहेडिड गीज, कामनटील, नार्दन पेंटल, कामनकूट, लिटल कोरमोरेंट, चिफ चेफ, रुडी, शेल्डक, कामन, पोचार्ड, कामन टिल, लिटिल, कोर्मोरेंट, स्पाट्विल, मलार्ड बर्ड, युरेशियन टीलमूर हेन व ग्रेट इग्रेट प्रजातियों के विदेशी परिंदे पहुंचे है।

पौंग झील में अब तक सबसे अधिक बारहैडेड गूज व कॉमन कूट प्रजाति के सबसे अधिक प्रवासी पक्षी पहुंचे हैं। उधर, वन्य प्राणी विभाग हमीरपुर से डीएफओ डीएफओ राहुल रुहाने ने बताया कि शीघ्र ही इस महाराणा प्रताप महासागर में 64 लाख से बनी हुई एक आधुनिक मोटर बोट भी शीघ्र दिसंबर माह तक इस झील में पहुंच जाएगी, जिससे पर्यटक यहां आने वाले पर्यटक इस मोटर बोट के जरिए झील का सुंदर नजारा देख सकते हैं और झील की सैर भी कर सकते हैं।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो