फ्लाइंग ऑफिसर कार्तिक की डूबने से हुई मौत को लेकर परिजनों को शक जांच की मांग

HNN News /मंडी

कार्तिक ठाकुर को बचपन से ही आसमान में उड़ने की चाहत थी। आसमान में उड़ान भरने की इसी चाहत के चलते कार्तिक ठाकुर ने वायुसेना को अपनी कर्मभूमि के रूप में चुना। कार्तिक ने हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक सेवा की परीक्षा को भी उतीर्ण कर लिया था, मगर उसने जीवन में कुछ और ही ठान रखा था। जेट की आवाज और पंखों का आगाज इस सपने को लेकर कार्तिक ने आसमान में उड़ने की ठान ली थी।

फरवरी 2018 में बतौर फ्लाईंग ऑफिसर अपनी डयूटी ज्वाईन की थी।  कार्तिक  अपने घर का इकलौता चिराग था और सभी का लाडला भी। अब परिवार वालों को जिंदगी भर शायद ही यकीन हो पाए कि उनका लाडला अब इस दुनिया में नहीं रहा।

इस बात पर तो कोई भी यकीन नहीं कर रहा कि कार्तिक की डूबने के कारण मौत हुई है । अब सवाल यह खड़ा हो रहा है क्योंकि कार्तिक के घरवालों के अनुसार वह एक कुशल तैराक था। कार्तिक के परिवार वाले उसकी मौत के कारणों को लेकर उच्च स्तरीय जांच की भी मांग कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *