बद्दी स्थित मैग्नाटेक इंटरप्राइजिज पर एफआईआर दर्ज

नशे की दवा में उपयोग होने वाले सॉल्ट एटिजोलाम के रिकॉर्ड में पाई गई गड़बड़ी

HNN/ बद्दी

प्रदेश के सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्र बद्दी में एक फार्मा उद्योग पर एनडीपीएस एक्ट, ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट, धारा 420 के अलावा अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। कंपनी द्वारा एक शैडयूल एच दवा में प्रयोग होने वाले सॉल्ट में अनियमिताएं पाए जाने के बाद ड्रग विभाग की रिपोर्ट के आधार पर जिला पुलिस ने उद्योग के खिलाफ मामला दर्ज किया है। काबिलेगौर है कि डिप्टी ड्रग कंट्रोलर मनीष कपूर की टीम में शामिल ड्रग इंस्पेक्टर अनूप शर्मा, लवली ठाकुर, प्रोमिला ठाकुर, कुश्ल कुमार व नरेद्र ठाकुर ने बीती 5 जून को बद्दी के मैग्नाटैक इंटरप्राईजिज उद्योग का निरीक्षण किया था।

जांच के दौरान पाया गया कि उद्योग के रिकार्ड में 300 ग्राम एजिजोलाम सॉल्ट इंद्राज हुआ था। लेकिन उद्योग के स्टॉक में केवल 113 ग्राम सॉल्ट ही स्टॉक में पाया गया। बचे हुए 187 ग्राम सॉल्ट का कंपनी प्रबंधक मुकेश सैणी, सेल पर्चेज व मार्केटिंग डिपार्टमेंट कोई रिकार्ड न पेश कर सके। छानबीन में यह भी पाया गया कि एटिजोलाम से संबंधित दवाईयों की मार्केटिंग जीरकपुर और मुंबई की कंपनियों द्वारा की गई। एटिजोलाम सॉल्ट शैडयूल एच ड्रग में आता है और नशे से संबंधित दवाईयों में इस सॉल्ट का प्रयोग होता है।

उद्योग द्वारा 187 ग्राम सॉल्ट का कोई रिकार्ड पेश नहीं किया जा सका। यहां यह भी काबिलेगौर है कि काला अंब के दो उद्योगों की भी जांच चल रही थी जिसमें कुछ सॉल्टों में मार्केटिंग का ईशू था। लेकिन दोनों उद्योग निर्माण से लेकर आर्डर तक कहीं भी दोनों उद्योग डिफाल्टर नहीं पाए गए। लेकिन बद्दी के उद्योग में सॉल्ट के रिकार्ड में अनियमिताएं पाए जाने के चलते उद्योग पर मामला दर्ज किया गया है।

डिप्टी ड्रग कंट्रोलर बद्दी मनीष कपूर का कहना है कि ड्रग विभाग की टीम ने बद्दी के मैग्नाटेक इंटरप्राईजिज फार्मा उद्योग का निरिक्षण किया था। जिसमें कंपनी 187 ग्राम एटिजोलाम सॉल्ट का रिकार्ड प्रस्तुत नहीं कर पाई। ड्रग विभाग ने जांच रिपोर्ट पुलिस को सौंपी थी जिसके बाद बद्दी पुलिस ने उद्योग के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

उधर, एसपी रोहित मालपानी ने बताया कि ड्रग विभाग की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने बद्दी के मैग्नाटेक इंटरप्राईजिज दवा उद्योग पर धारा 22, 25ए, 26 व 29 के अलावा एनडीपीएस एक्ट 8, 420 और आईपीसी की धारा 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है। उद्योग के मालिक के खिलाफ मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो