भरत बनकर जय राम की ओर से पालकी को कांधा देने श्री रेणुका जी आया हूं- बिंदल

देवताओं की पालकीयों को कांधा देते हुए भावुक हुए बिंदल, बोले खल रही है उनकी गैरमौजूदगी. प्रशासन की ओर से की गई व्यवस्थाओं की हुई प्रशंसा

जैसे रामायण में रामजी की खड़ाऊ रखकर भरत ने भगवान राम का राज संभाला था वैसे ही आज मैं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की ओर से परंपरा का निर्वहन करते हुए 1 दिन के लिए रेणुका जी मेले में भगवान परशुराम जी की पालकी को कांधा देने आया हूं।

डॉक्टर बिंदल के साथ विनय गुप्ता और डीसी डॉ आरके पारू थी

यह बात विधानसभा अध्यक्ष जयराम ठाकुर ने दशमी के दिन रेणुका जी मेले के शुभारंभ पर भगवान परशुराम जी की पालकी को कांधा देने के दौरान कही।

डॉ राजीव बिंदल ने अपने बयान में कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर प्रदेश में इन्वेस्टर मीट के माध्यम से एक नए युग का सूत्रपात करने जा रहे हैं। 2 दिन के लिए मुख्यमंत्री धर्मशाला में व्यस्त रहेंगे। मगर उनकी ओर से मैं प्रदेशवासियों को श्री रेणुका जी मेले की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।

उन्होंने कहा कि मानवता और कर्तव्य परायणता के प्रतीक भगवान परशुराम जी और मां रेणुका जी के मिलन का यह त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है।

इस दौरान ददाहु स्कूल के मैदान में पहुंची पालकीओं का अभिनंदन करने के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने भगवान परशुराम जी की मुख्य पालकी को कांधा देकर शोभा यात्रा को रवाना किया।

बड़ी बात तो यह थी कि विधानसभा अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में ना होने को लेकर काफी भावुक भी नजर आए। उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर मीट के बाद प्रदेश में बेरोजगारों को बड़ी संख्या में रोजगार भी मिलेगा और प्रदेश की जीडीपी में भी बढ़ोतरी होगी।

इससे पूर्व विधानसभा अध्यक्ष का रेणुका विकास बोर्ड के पदाधिकारियों द्वारा जोरदार स्वागत किया गया। श्री रेणुका जी विकास बोर्ड की ओर से अध्यक्ष उपायुक्त डॉक्टर आरके परुथी, मेंबर सेक्रेट्री रेणुका जी विकास बोर्ड विवेक शर्मा, मुख्य कार्यकारी अधिकारी दीप राम शर्मा श्री रेणुका जी भाजपा मंडल अध्यक्ष सुनील शर्मा मीडिया प्रभारी प्रताप रावत आदि मुख्य रूप से स्वागत में मौजूद रहे।

वही इस मौके पर जिला भाजपा अध्यक्ष विनय गुप्ता, नवनियुक्त मंडल प्रधान प्रताप ठाकुर महामंत्री विशाल तोमर जिला परिषद सदस्य मनीष चौहान आदि भी मुख्य रूप से मौजूद रहे।

वहीं इस बार श्रद्धालुओं ने जिला प्रशासन के द्वारा व पुलिस प्रशासन के द्वारा की गई व्यवस्थाओं की जमकर सराहना करी। बड़ी बात तो यह भी रहेगी पहली बार ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर श्रद्धालुओं को कोई परेशानी नहीं उठानी पड़ रही है। वजह यह भी रही है कि इस बार प्रशासन की ओर से मेला स्थल से पहले ही गाड़ियों को रोक दिया गया है। तथा श्रद्धालुओं के लिए मेला स्थल तक निशुल्क बस सेवा का प्रावधान भी प्रशासन की ओर से रखा गया है।