भूख से या बीमारी से परेशान शावक तेंदुए ने नदी किनारे तोडा दम

2 दिनों से बायरी श्री रेणुका जी ददाहू क्षेत्र में सुस्त और परेशान घूम रहा था नन्ना शावक

HNN News श्री रेणुका जी

2 दिनों से श्री रेणुका जी ददाहू से नाहन की और करीब 2 किलोमीटर दूर बायरी में परेशान घूमता दिख रहा तेंदुए का शावक मंगलवार को जलाल नदी के किनारे मृत मिला है।

वन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक शावक की की उम्र डेढ़ से 2 साल के बीच आंकी जा रही है। डीएफओ श्री रेणुका जी वन मंडल श्रेष्ठा नंद आर ओ सुरेश कुमार तथा वन विभाग की टीम ने जलाल नदी के किनारे मृतक मिले सावत के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु भिजवा दिया है।

शावक की मृत्यु भूख से होने की संभावना ज्यादा जताई जा रही है। वन विभाग का यह भी कहना है कि संभवत शावक या तो बीमार भी रहा होगा। मगर इन सब का खुलासा पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद ही हो पाएगा।

Roवन क्षेत्र श्री रेणुका जी सुरेश कुमार का कहना है कि यह शावक दो-तीन दिन से इस क्षेत्र में घूम रहा था। लोगों ने बताया था कि चलने फिरने से ही मालूम हो रहा था कि यह काफी सुस्त है। मगर आज मंगलवार को लोगों ने जानकारी देते हुए बताया तेंदुए का शावक नदी के किनारे मृतक पड़ा है।

उन्होंने बताया कि जब लोगों ने इस शब्द के इस क्षेत्र में होने की जानकारी दी थी तो वन विभाग ने पावटा साहिब से पिंजरा मंगा कर यहां डाल भी रखा था। मगर तेंदुए का शावक इस पिंजरे में नहीं आ पाया।

आरो ने बताया कि ददाहू पशुपालन विभाग से चिकित्सक शावक का पोस्टमार्टम कर रहे हैं। रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का पता चल पाएगा।

बरहाल तेंदुए के शावक की इस कदर मौत होना जंगलों में जंगली प्राणियों का सुरक्षित ना होना बताता है। अब चाहे शावक मां से बिछड़ कर भूख से मरा हो या फिर किसी बीमारी से इसके अलावा भूख में जहरीली वस्तु खाने से भी मौत होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।