महासू देवता मेले में बच्चों की कुश्ती में कपिल ने जीती माली

HNN / राजगढ़

बीते वर्षों की भांति इस वर्ष भी छमरोगा के महासू देवता मंदिर में सांकेतिक रूप से मेले का आयोजन किया गया। जिसमें बच्चों की कुश्ती में युवा खिलाड़ी कपिल ने माली जीती। मेला कमेटी के पदाधिकारी लेखराज व सतीश ने बताया कि मेले में कोविड-19 के नियमों की अनुपालना करते हुए महासू देवता की पारंपरिक पूजा की गई। उन्होने बताया कि इस मंदिर का इतिहास ठौड़ निवाड़ मंदिर से मिलता-जुलता है।

भादों मास के दूसरे रविवार को इतवारनाथ मंदिर ठौड़ निवाड़ से झंडा लाया जाता है तदोपंरात महासू देवता की पारंपरिक पूजा की जाती है। जिसमें क्षेत्र के लोगों द्वारा दूध व चावल की भेंट चढ़ाते हैं और खीर का भंडारा दिया जाता है। बताया कि यह करीब आठ सौ साल पुराना मंदिर है जिसमें क्षेत्र के करीब 12 गांव की आस्था जुड़ी है। लेखराज ने बताया महासू देवता की पूजा के उपरांत ज्वाला माता और साथ में बहने वाली  गिरि नदी में ख्वाजा की पूजा भी की जाती है।

उन्होने बताया कि मेले की प्राचीन परंपरा को बनाए रखते हुए सांकेतिक रूप से बच्चों की कुश्तियां करवाई गई जिसमें छमरोगा के युवा कपिल को माली जीतने पर पांच रूपये का इनाम दिया गया। मेला समिति के  नरायण  दत, कुशल कुमार, प्रेमपाल सहित अन्य सदस्यों ने मेला प्रबंघन में सहयोग दिया गया।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो