मीटर रेंट के नाम पर उपभोक्ताओं से वसूले जा रहे करोड़ों रूपये

एन के पन्डित ने कहा- ऊर्जा मन्त्री अपनी दिमागी ऊर्जा का इस्तेमाल कर….

HNN / मण्डी

आज मण्डी में मीडिया को जारी ब्यान में राहुल -प्रियंका गाँधी कांग्रेस के प्रदेश मीडिया इन्चार्ज और राजीव गाँधी पंचायती राज के जिला मीडिया प्रभारी एन के पन्डित ने बिजली बोर्ड पर उपभोक्ताओं से मीटर रेंट के नाम पर करोड़ों रूपये की वसूली का आरोप जड़ा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल की भाजपा सरकार इस मीटर रेंट के खेल को तुरन्त बन्द करे। पन्डित ने आंकड़ों का जाल बुनते हुए कहा कि पिछले वित्त वर्ष के आँकड़ों की बात करें तो हिमाचल में बिजली बोर्ड के लगभग 26 लाख उपभोक्ता है। उन्होने कहा कि अब ये आँकड़ा और बढ़ गया है।

उन्होंने मीडिया के नाम जारी सन्देश में कहा कि हिमाचल प्रदेश की बात करें तो तीन तरह के उपभोक्ता है। उन्होंने कुछ मीडिया कर्मियों से दूरभाष पर बात करते हुए बताया कि डोमेस्टिक घरेलू उपभोक्ता 19 लाख, कमर्शियल वाणिज्य उपभोक्ता 6 लाख और इंडस्ट्रियल उपभोक्ता 1 लाख इन सब को मिलाकर प्रदेश में कुल 26 लाख बिजली बोर्ड के उपभोक्ताओं की संख्या हो जाती है। पन्डित ने कुछ बिजली बोर्ड के उपभोक्ताओं के बिल मीडिया को दिखाते हुए कहा कि हिमाचल की भाजपा सरकार के दिशा निर्देश अनुसार बिजली बोर्ड मीटर रेंट के नाम पर करोड़ों रूपये वसूल रहा है।

उन्होंने गणित सहित आँकड़ों पर गणना करते हुए कहा कि औसतन एक उपभोक्ता से 100 रूपये की गणना भी करें तो सीधे 26 लाख उपभोक्ताओं से हर महीने 26 करोड़ रूपये और सालाना 312 करोड़ बिजली बोर्ड हर महीने जनता की जेब में डाका डालकर वसूल रहा है। हिमाचल की जनता इस मुद्दे पर सरकार के खिलाफ खूब आग बबूला हो गई है और कांग्रेस पार्टी ने इस मुद्दे को जनता के बीच जाकर चुनावी मौसम को भांपते हुए हाथों हाथ लें लिया है। उन्होंने कहा कि मै मीडिया कर्मियों से भी अनुरोध करता हूँ कि वो इस मुद्दे पर प्रदेश के ऊर्जा मन्त्री सुख राम और प्रदेश के मुखिया जय राम से भी इस करोड़ों रूपये के खेल पर प्रतिक्रिया जरूर लें।

उन्होंने कहा कि 312 करोड़ रूपये सालाना और सोचो हमारे घर मे तो अगर 15-20 साल से मीटर लगा है तो कितने रूपये की वसूली हुई होगी। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को समय रहते अगर नहीं उठाया तो ये मीटर रेंट के नाम से पैसा वसूली का खेल है वो आगे भी जारी रहेगा। पन्डित ने कहा कि अब इस मुद्दे पर हिमाचल की जनता के दिल मन में बहुत करंट पैदा हो चूका है इसलिए हिमाचल के ऊर्जा मन्त्री अपनी दिमागी ऊर्जा का इस्तेमाल करके इस खेल को बन्द करके बिजली बोर्ड को आदेश जारी करें।

पन्डित ने हिमाचल के मुख्यमन्त्री और ऊर्जा मन्त्री को खुली चुनौती देते हुए कहा कि अगर हिमाचल की भाजपा सरकार प्रदेश के 26 लाख उपभोक्ताओं को मीटर रेंट के इस खेल से राहत नहीं दे सकती तो भाजपा सरकार को यहीं उपभोक्ता प्रदेश से बाहर करेंगे और कांग्रेस पार्टी सत्ता में आने पर पहली कलम से जनहित फैसला लेगी।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो