मीडिया के बढ़ते दायरे में जनता व मीडिया के बीच बनी जवाबदेही- गौतम

रियल जर्नलिज्म डर नहीं मार्गदर्शन करता है- जमवाल

HNN/ नाहन

राष्ट्रीय प्रेस दिवस के उपलक्ष पर प्रेस क्लब नाहन में उपायुक्त सिरमौर आरके गौतम मुख्य अतिथि तथा एसपी सिरमौर ओमापति जमवाल बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित रहे। जिला लोक संपर्क विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में प्रेस क्लब नाहन के तमाम सदस्य तथा उपमंडल से आए अन्य पत्रकार भी शामिल हुए। इस मौके पर जहां स्थानीय मीडिया बंधुओं ने” कौन मीडिया से नहीं डरता” इस थीम पर व्यापक रूप से अपने विचार रखे। तो वही उपायुक्त आरके गौतम और जिला पुलिस कप्तान ओमापति जमवाल ने तर्क और वितर्क के साथ कौन मीडिया से नहीं डरा विषय पर चर्चा की।

उपायुक्त सिरमौर आरके गौतम ने कहा कि देश की तरक्की में मीडिया का भी अहम रोल रहा है। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था की मजबूती में आज मीडिया का जो दायरा बड़ा है उससे प्रेस की भूमिका और अधिक महत्वपूर्ण हो गई है। उन्होंने कहा कि पहले प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ-साथ रेडियो ब्रॉडकास्टिंग मीडिया के प्रमुख अंग थे। मगर अब सोशल ,डिजिटल वेब टीवी जनता की पहली पसंद बन गया है। उन्होंने कहा कि इसकी मुख्य वजह वेब टीवी और डिजिटल मीडिया की खबरों पर जनता जवाबदेही सुनिश्चित करती है।

ऐसे में भ्रमित और फेक न्यूज़ का जवाब सरकार व प्रशासन से ज्यादा जनता खुद दे देती है। उन्होंने कहा कि मीडिया के बढ़ते दायरे में आज सोशल वर्क डिजिटल सहित वेब टीवी मीडिया को जल्दबाजी में ब्रेकिंग न्यूज़ डालने से पहले उसकी सच्चाई और तथ्यों से भी पूरी तरह अवगत होना चाहिए। भ्रमित और सनसनीखेज खबरों से ना केवल जनता के बीच में डर पैदा होता है बल्कि इससे सरकार व प्रशासन की सिर दर्दी भी बढ़ती है। वही, जिला पुलिस कप्तान ओमापति जमवाल ने अपने विचार रखते हुए कहा कि आज मीडिया को अपनी क्षमता निर्माण में वृद्धि की एक बड़ी महत्वपूर्ण जिम्मेवारी मिली है यह जिम्मेवारी लोकतांत्रिक व्यवस्था के संचालन में एक बड़ी सहायक साबित होती है।

उन्होंने अपने स्कूल टाइम के कुछ पुराने किस्से साझा करे जिसमें उन्होंने यह बताया कि उस समय किस तरह का मीडिया होता था। उन्होंने बताया कि मीडिया से डर और वही पुलिस से डर इन दोनों में बड़ी समानता है। जिस प्रकार एक जिम्मेवार पत्रकार निष्पक्ष व पारदर्शिता के साथ किसी भी घटनाक्रम को खबर में प्रकाशित करता है तो उससे सभी को एक दिशा मिलती है। अगर उसी खबर को सनसनीखेज बनाते हुए समाज में रखा जाता है तो उससे डर पैदा होता है और भ्रम पैदा होता है। यह डर और भ्रम दोनों समाज को विपरीत दिशा में ले जाते हैं। वैसे ही पुलिस सही तथ्य और सबूतों के साथ कार्य करती है तो उसे न्याय पाने वाले को न्यायालय से न्याय मिलता है और पुलिस के प्रति उसकी विश्वसनीयता कायम होती है।

गलत काम करने वाला पुलिस से भी डरेगा मीडिया से भी डरेगा। आयोजित कार्यक्रम में मंच का संचालन एपीआरओ हेमंत नेगी के द्वारा किया गया। इस दौरान जिला के तमाम वरिष्ठ पत्रकारों ने अपने अपने संबंधित विषय पर विचार भी रखें। इस मौके पर प्रेस क्लब के द्वारा एक बेहतर कार्यक्रम आयोजन करवाने को लेकर जिला लोक संपर्क अधिकारी सिंपल सकलानी का आभार भी व्यक्त किया गया। बताना जरूरी है कि यह कार्यक्रम प्रेस क्लब नाहन में आयोजित किया गया। इस दौरान जिला लोक संपर्क अधिकारी कार्यालय स्टाफ भी विशेष रूप से मौजूद रहा।

वही, सांय कालीन आयोजित भोजन अंतराल के दौरान प्रेस क्लब को लेकर भी चर्चा हुई। जिसमें वरिष्ठ पत्रकार हितेश शर्मा, राजन पुंडीर, जितेंद्र पप्पू, जितेंद्र ठाकुर, आशु वर्मा, प्रताप सिंह, चंद्र ठाकुर, राकेश, नंदन, अमित शर्मा, दीपक, पंकज अब्दुल आदि ने कहा कि प्रेस क्लब की कार्यकारिणी को 6 वर्ष का कार्यकाल हो चुका है। पत्रकार साथियों ने कहा कि अब जल्द मीटिंग बुलाकर प्रेस क्लब के चुनाव करवाए जाने चाहिए।

इन सभी सदस्यों ने प्रशासन से भी मांग की है कि जब तक प्रेस क्लब के चुनाव और नई कार्यकारिणी का गठन न हो जाए तब तक किसी भी तरह की ग्रांट या एड जारी ना करवाई जाए। सभी पत्रकार साथियों का यह मानना है कि ऐसा किया जाना असंवैधानिक होगा। पत्रकार साथियों का मानना है कि हर 2 वर्ष के बाद प्रेस क्लब के चुनाव सुनिश्चित किए जाने चाहिए।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो