राठौर- प्रदेश में हुए उपचुनाव परिणामों का असर दिखने लगा, पेट्रोल-डीजल के दामों…

HNN/ शिमला

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने केंद्र सरकार द्वारा डीज़ल में 10 रुपए व पेट्रोल में 5 रुपये व प्रदेश सरकार द्वारा वेट में की कटौती को मामूली बताते हुए कहा है कि आज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में भारी कमी है बावजूद इसके मूल्य देश में अभी भी बहुत है। उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह सरकार के समय जब कच्चे तेल की कीमत 110 डॉलर प्रति बैरल होती थी तो उस समय देश में 71.41 रुपये पेट्रोल व 57.25 रुपये के आसपास डीज़ल लोगों को मिलता था।

आज जब कच्चे तेल की कीमत आधी है तो सरकार इसे 100 रुपए से ऊपर बेच रही है। उन्होंने कहा कि गत दो सालों में सरकार ने तेल से 33 लाख करोड़ से अधिक कमाई की है। मीडिया के साथ बातचीत करते हुए राठौर ने कहा कि प्रदेश में हुए उप चुनाव परिणामों का असर दिखने लगा है। उन्होंने कहा कि बेलगाम सरकार को लगाम लगाना जरूरी था।

मंडी सहित प्रदेश के तीन उप चुनावों में कांग्रेस की जीत ने साबित कर दिया है कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में प्रदेश में भाजपा सत्ता से बाहर होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हुए उप चुनाव परिणामों के बाद मोदी और जयराम सरकार को प्रदेश के लोगों ने घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है। राठौर ने कहा कि सरकार ने रसोई गैस के दामों में कोई कमी नही की है।

उन्होंने कहा कि आज देश में रसोई गैस एक हजार से ऊपर मिल रही है, जबकि मनमोहन सिंह सरकार के समय यही गैस 400 व 500 रुपये की दर से मिलता था। इसपर सरकार सब्सिडी भी प्रदान करती थी। उन्होंने कहा कि आज गैस पर सब्सिडी पूरी तरह बंद कर दी गई है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि गैस सिलेंडर के मूल्यों में कमी करते हुए इस पर पुनः सब्सिडी बहाल की जाए।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो