विजन 20-20/ बिना दवा के “निरोग काया, घर में माया” बस लेना होगा डीसी सिरमौर से यह गुरु मंत्र

प्लास्टिक मुक्ती काहे लक्ष्य सभी के सहयोग से होगा लक्ष्य हासिल पहले दूसरे तीसरे पुरस्कार में मिलेंगे लाखों, अगर अपने जिला को बनाना है नंबर वन तो

HNN News/ नाहन

जिला सिरमौर के लिए विजन 2020 का अनावरण किया गया, जो मुख्य रूप से जिला वासियों के लिए स्वास्थ्य और स्व्च्छ पर्यावरण प्रदान करने और जिला सिरमौर को 5 जून, 2020 तक पॉलिथीन मुक्त बनाने पर केंद्रित रहेगा। उपायुक्त सिरमौर डॉ.आर.के.परूथी ने आज बचत भवन नाहन के सभागार में आयोजित प्रैस वार्ता में वर्ष 2020 का विजन सभी विभागों के अधिकारियों और जिला के मीडिया के सामने रखा।

उन्होंने कहा कि जिला के 228 ग्राम पंचायतों को ठोस कचरा प्रबंधन के लिए 43 क्लस्टर में विभाजित किया जाएगा, जिसमे एकत्र किए गए कचरे को वैज्ञानिक रूप से निष्पादित किया जाएगा और जिला के 1504 वार्ड में सफाई सुनिश्चित करने के लिए महिला मंडलों आवंटित किए जाएंगे।

डॉ. परूथी ने कहा कि ग्राम पंचायत बाग पशोग में पर्यटकों और आगंतुकों के लिए जीरो वेस्ट टूरिस्ट सेंटर स्थापित किया जाएगा जोकि आधुनिक किचन, टॉयलेट, कैफे, वाई-फाई, सोलर सिस्टम और रूफटॉप रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम से पूर्णता लैस होगा और इसमें महिला मंडल स्टोर भी होगा जहां वे घरेलू और हाथों से बने उत्पाद और स्थानीय उत्पाद बेच सकेंगीे। उन्होंने कहा कि 25 जनवरी, 2020 से पहले नाहन के चौगान में ओपन एयर जिम स्थापित किया जाएगा तथा एक और ओपन एयर जिम नाहन के विला राउंड में स्थापित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि जिला में सम्पूर्ण स्वच्छता कार्यक्रम के तहत समस्त ग्राम पंचायतों में ठोस कचरे के संग्रह के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर मिनी संग्रह केंद्र स्थापित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जिला के सभी राष्ट्रीय उच्च मार्गों के साथ मेश डस्टबिन लगाए जाएंगे जिसमें पर्यटक व जिला वासी खाली प्लास्टिक की बोतलों, पॉलीथिन और खाद्य पदार्थों के रैपर जैसे सूखे कचरे को संग्रह कर सकेगे। डॉ. परूथी ने बताया कि प्रत्येक विकास खंड में विभिन्न किस्मों के एक-एक लाख पौधे लगाए जाएंगे।

इसके अलावा नाहन विकास खण्ड में मनरेगा के तहत एक लाख नींबू के पौधे भी लगाए जाएंगे और नवरतन थीम पार्क भी स्थापित किए जाएंगे जिसमें त्रिवेणी, पंचवटी, वायु को शुद्व करने वाले पौधे, पानी को शुद्व करने वाले पौधे, मच्छर भगाने वाले पौधे, सांप भगाने वाले पौधे दन्तवन, चारा देने वाले पौधे, रसोई घर को शुद्व रखने वाले पौधे स्थापित किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि जिला में औषधीय और सुगंधित फूलों की खेती और उसके विकास के लिए सीएसआईआर-इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन बायो-रिसोर्स टेक्नोलॉजी के साथ समझोता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे जिसमें दुर्लभ व विलुप्त होने की कगार पर पहुंचे पौधों को रोपित किया जाएगा और अनुसंधान भी किया जाएगा।

इसके अलावा, हर्बल अगरबत्ती के लिए उद्यम, आड़ू से शराब बनाने तथा अनाज और बाजरा से बनने वाले खाद्य पदार्थ भी ज्ञापनों का हिस्सा होंगे। उपायुक्त ने कहा कि संगडाह में 6 बीघा 11 बिस्वा भूमि पर किंकरी देवी पार्क विकसित किया जाएगा। इसमें वॉलीबॉल मैंदान के अलावा आर्ट गैलरी भी स्थापित की जाएगी।

उन्होंने कहा कि ‘एक दिन स्कूल के नाम’ स्वच्छता कार्यक्रम के पहले चरण के तहत, 879 स्कूलों के 27976 छात्रों ने 1825 किलोग्राम से अधिक पॉलिथीन एकत्र किया, 310 किलोमीटर क्षेत्र में सफाई की और 631 पॉलीब्रिक्स बनाए। इसी प्रकार, अभियान के दूसरे चरण के तहत, 1152 स्कूलों के 52,042 छात्रों ने 3162 किलोग्राम से अधिक पॉलिथीन इकट्ठा किया और 605 किलोमीटर क्षेत्र में सफाई की व 3766 स्थानीय निकायों के सदस्यों की मदद से 4804 पॉलीब्रिक्स बनाए।

इसी प्रकार जिले के 2031 स्कूलों के कुल 80,018 छात्रों ने अब तक 4990 किलोग्राम पॉलीथिन एकत्र किया है, लगभग 916 किलोमीटर क्षेत्र की सफाई की और 5435 पॉलीब्रिक्स बनाए। उन्होंने वर्ष-2020 के लिए किए जाने वाले नई पहलों के बारे में बताते हुए कहा कि शीघ्र ही गाय के गोबर से दीये बनाए जाएगे और मदिंरों में चढ़ाए जाने वाली फूलों से अगरबत्ती और धूप बनाई जाएगी और इको-फ्रेंडली पटाखे बनाने के लिए प्रयास किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग की मदद से सड़कों पर ब्लैक स्पॉट की पहचान कर सडक दुर्घटनाओं को कम करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पांवटा साहिब और काला अम्ब में 70-70 बीघा भमि पर ट्रांसपोर्ट नगर विकसित किए जाएंगे। इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त प्रियंका वर्मा, पुलिस अधीक्षक, अजय कृष्ण शर्मा और विभिन्न विभागों के अधिकारी व जिला के मीडिया कर्मी उपस्थित थे

Test