वीरेंद्र कंवर ने केंद्रीय कृषि मंत्री से खुले दिल से मदद करने की करी अपील

HNN/ ऊना वीरेंद्र बन्याल

किसानों के कल्याण और उनकी आय बढ़ाने के लिए कृषि क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं चलाई गई है। इस संबंध में आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से एक सम्मेलन का आयोजन हुआ जिसमें केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर तथा केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पियूष गोयल के साथ-साथ विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री व ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, कृषि, मत्स्य व पशु पालन मंत्री वीरेंद्र कंवर ने भाग लिया।

बैठक में सरकार द्वारा चलाई जा रही कृषि अवसंरचना कोष, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि और केसीसी की परिपूर्णता, डिजिटल कृषि, राष्ट्रीय तिलहन और आयल पाॅम मिशन व कृषि उत्पादों का निर्यात इत्यादि योजनाओं पर विस्त्तृत चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि कोविड संकट के समय केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई इन योजनाओं से लोगों को काफी लाभ मिला है। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पियूष गोयल ने कहा कि देश की अर्धव्यवस्था का काफी तेजी से सुधार हो रहा है। कहा कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य काफी जोरो पर जारी है। इसके अलावा कृषि क्षेत्र में भी काफी तेजी से विकास हो रहा है।

कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर ने केंद्र से मांगा सहयोग

वर्चुअल बैठक के दौरान कृषि मंत्री वीरेंद्र कुमार ने कहा कि गत सात वर्षों से मोदी सरकार ने कृषि क्षेत्र में ऐतिहासिक फैसले लिए है। हिमाचल प्रदेश में बागवानों द्वारा 5 हजार करोड़ से अधिक सेब का उत्पादन किया जाता हैै। उन्होंने कहा कि हिमाचल को सब्जी के क्षेत्र में 5000 करोड़ से अधिक की आय होती हैं। उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा जो देश के किसानों को मोदी सरकार ने एक लाख करोड़ का पैकज कृषि सेक्टर की उन्नति के लिए दिया है उसके लिए भी केंद्र सरकार का धन्यवाद किया।

उन्होंने केंद्रीय कृषि मंत्री को अवगत करवाया कि प्रदेश में मास्टर ट्रेनर तैयार किए जा रहे हैं जिसकी सूची संबंधित मंत्रालय को भेज दी गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत प्रदेश के 93724 किसानों को लगभग 13.50 करोड रुपए की राशि सीधे किसानों के खातों में डाली गई है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में 1 लाख 21000 किसानों ने क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन किया है। उन्होंने कृषि मंत्री को बताया कि प्रदेश में किसान डेटाबेस का कार्य प्रगति पर है।

उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में दलहन की ज्यादा संभावनाएं है जिसके लिए उन्होंने दलहन की खेती को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार से सहयोग की मांग की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 6 क्लस्टर बनाए गए हैं जिसमें सेब, मटर, अदरक, लाल चावल, मत्स्य व चाय उत्पादन हैं। उन्होंने केंद्रीय कृषि मंत्री को विश्वास दिलाया कि मोदी सरकार का किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य शीघ्र पूरा किया जाएगा। उन्होंने केंद्र सरकार से सहयोग की अपील की और केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने का आश्वासन भी दिया।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो