शेरो के बाद अब लेपर्ड कैट भी नहीं दिखेगी मिनी ज़ू में

HNN News/ श्री रेणुका जी

वन्य प्राणी विहार रेणुका में जानवरों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मिनी जू में शेरों के बाद अब तेंदुआ बिल्ली भी नहीं दिखेगी।

यहां रह रही इकलौती लैपर्ड कैट ‘हिमा’ ने भी दम तोड़ दिया है। पिछले कई वर्षों से हिमा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई थी। एकमात्र तेंदुआ बिल्ली की मौत से बाड़ा अब वीरान हो गया है। कुछ वर्ष पूर्व ही यहां दो लैपर्ड कैट को लाया गया था।

एक ने पिछले वर्ष और बीते शनिवार को हिमा ने दम तोड़ दिया। हिमा की मौत का कारण अधिक मोटापा बताया जा रहा है। विभाग अब जोड़े को रेणुका लाने की योजना बना रहा है, लेकिन हिमाचल या पड़ोसी राज्यों के किसी भी जू में तेंदुआ बिल्ली नहीं है।

वन्य प्राणी विहार रेणुका में जानवरों की मौत कोई नहीं बात नहीं है। हर वर्ष यहां किसी न किसी जानवर की मौत हो रही है। इससे पूर्व यहां शेरों का पूरा एक वंश खत्म हो चुका है। अब तेंदुआ बिल्लियों से भी जू वीरान हो गया है।

वन्य प्राणी विभाग शिमला के डीएफओ राजेश शर्मा ने बताया कि तेंदुआ बिल्ली की आयु 11 वर्ष के करीब थी। अधिक मोटापे के कारण वह अपने वजन को सहन नहीं कर पाई। इसके चलते उसने दम तोड़ दिया है। बिल्ली का पोस्टमार्टम करवाकर उसे जला दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है।