सड़क दुर्घटना में घायल आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की मौत, परिजनों ने मेडिकल कॉलेज नाहन पर लगाया लापरवाही का आरोप…

HNN/ नाहन

नाहन-कुमार हट्टी नेशनल हाईवे पर झमीरिया के समीप स्कूटी और कार के बीच भिड़ंत होने से घायल हुई आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने उपचार के दौरान पीजीआई में दम तोड़ दिया है। वहीं दूसरी तरफ मृतक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के परिजनों ने नाहन मेडिकल कॉलेज पर लापरवाही का आरोप जड़ा है तथा उचित कार्यवाही करने की मांग की है। जानकारी देते हुए आयुष कुमार पुत्र रामकुमार निवासी सेन की सैर ने बताया कि उनकी माता रेणु बाला जो की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता है महीनों पहले नाहन-कुमार हट्टी नेशनल हाईवे पर झमीरिया के समीप सड़क दुर्घटना में घायल हो गई थी।

जिसके बाद उनका उपचार नाहन मेडिकल कॉलेज और पीजीआई से भी चला। आयुष कुमार ने बताया कि पीजीआई के इलाज के बाद उनकी मां की तबीयत में काफी सुधार था परंतु बेड पर रहने से जो जख्म उन्हें दुर्घटना में लगे थे वह घाव फिर से हरे हो गए। जिसके बाद वह अपनी मां को लेकर उपचार हेतु नाहन मेडिकल कॉलेज पहुंचे। यहां मौजूद डॉक्टर ने कहा कि इनके शरीर में कमजोरी है और इन्हें एडमिट कर दिया जाए। जिसके बाद उनकी माता का उपचार किया गया तथा उन्हें ब्लड चढ़ाया गया।

आयुष कुमार ने बताया कि इसके बाद उनकी मां की तबीयत बहुत बिगड़ गई तथा उन्हें पेट में दर्द होना शुरू हो गया। जब उनकी मां से दर्द सहन नहीं हुआ तो उन्होंने कहा कि उन्हें पीजीआई रेफर कर दिया जाए। इस पर वहां मौजूद डॉक्टर पुनीत ने कहा कि उन्हें कोई दिक्कत नहीं है और रेफर के लिए इंकार कर दिया गया। मरीज का बढ़ता दर्द देख परिजनों ने चिकित्सक से मरीज को जबरदस्ती रेफर करवाया और 108 एंबुलेंस सेवा की सुविधा देने की मांग की।

इस दौरान भी डॉक्टर पुनीत ने मृतिका के पति के साथ दुर्व्यवहार किया। जिसके बाद परिजनों ने जैसे-तैसे करके रेणु बाला को पीजीआई चंडीगढ़ पहुंचाया। मृतिका के पेट में बहुत दर्द होने के कारण पेट की नली फट गई थी जिसका पता उन्हें पीजीआई चंडीगढ़ पहुंचने पर चला। हालांकि पीजीआई में चिकित्सकों ने उन्हें बचाने की बहुत कोशिश की लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी तथा ऑपरेशन के दौरान ही उनकी मौत हो गई।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो