सफाई कर्मी बलीराम की सर्पदंश से मौत या फिर हत्या…

नाहन मेडिकल कॉलेज के सफाई कर्मियों ने कहा पहले होगा पोस्टमार्टम

HNN/नाहन

मेडिकल कॉलेज नाहन के सफाई कर्मी 50 वर्षीय बलिराम की मौत पर सफाई कर्मियों ने किसी बड़ी अनहोनी की आशंका जताई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सफाई कर्मी बलीराम की आज सुबह पीजीआई में मौत हो गई थी। मौत का कारण परिजनों के ओर से सर्प दंश बताया जा रहा है। घटना की बाबत परिजनों का कहना है कि बीती रात करीब 2:30 बजे जेल परिसर के समीप टीन के मकान में रह रहे उन के घर में सांप घुस आया था।

मृतक बलिराम की पत्नी कला देवी का कहना था कि उसके पति ने सांप को मार दिया था। जिसके बाद वह सो गया था। उसने यह भी बताया कि जब बलीराम की तबीयत खराब हुई तो उसे वह सुबह करीब 8:30 बजे मेडिकल कॉलेज नाहन लेकर गए। जहां बलिराम की हालत को देखते हुए उसे पीजीआई रेफर कर दिया गया।

क्योंकि बलीराम काफी निर्धन है लिहाजा मेडिकल कॉलेज के अन्य सभी सफाई कर्मियों ने आर्थिक मदद करते हुए उसे जल्दी से जल्दी पीजीआई ले जाने के लिए कहा। जिसके बाद उसे चंडीगढ़ पीजीआई ले जाया गया। जहां दोपहर में उसकी मौत हो जाना बताया गया।
मिली जानकारी के अनुसार मृतक के तीन बेटे हैं जिनमें से एक बेटा विक्रम अपने पिता की डेड बॉडी को नाहन मेडिकल कॉलेज ले आया।

देर शाम जब मेडिकल कॉलेज के परिसर से बलिराम की पत्नी व परिजन डेड बॉडी को अंतिम संस्कार के लिए ले जाने लगे तभी मेडिकल कॉलेज के करीब 4 दर्जन से भी अधिक सफाई कर्मियों ने डेड बॉडी को अंतिम संस्कार के लिए ले जाने से रोक दिया। सफाई कर्मी सुमित्रा, किरण, रोहित, प्रमिला, विद्या देवी, कांता आदि ने कहा कि उन्हें मृतक के परिवार से हमदर्दी है। मगर वह चाहते हैं कि बलिराम का पोस्टमार्टम किया जाए।

अब जो जानकारी हमें मिली है उसमें इस पूरे प्रकरण में बलिराम की पत्नी की भूमिका संदिग्ध बताई जा रही है। सफाई कर्मियों ने शक जताते हुए कहा कि जब रात को सांप ने काट लिया था तो उसकी पत्नी सुबह 8:00 बजे अपने पति को हॉस्पिटल क्यों लेकर आई। सफाई कर्मियों ने जब उसकी पत्नी कला देवी से पूछा कि मरा हुआ सांप कहां है, तो कला देवी ने बताया कि उसको तो बिल्ली खा गई है। वही दूसरा बड़ा शक सफाई कर्मियों ने यह जताया कि जब यहां से सुबह पीजीआई के लिए बलिराम को रेफर किया गया और उसकी पत्नी को पैसे इकट्ठा करके दिए गए तो वह करीब एक डेढ़ घंटे तक अस्पताल नहीं पहुंची।

जिसके बाद बलिराम का बेटा तथा अन्य अस्पताल के कुछ लोग बलिराम को चंडीगढ़ ले गए। जहां से उस की डेड बॉडी नाहन पहुंची।
करीब रात को 10:00 बजे तक चले इस हंगामे के दौरान सफाई कर्मियों ने पुलिस को भी सूचना दे दी थी। मौके पर पुलिस पहुंच चुकी थी। पुलिस के द्वारा मृतक के परिजनों के बयान दर्ज किए जा रहे थे।

हालांकि सफाई कर्मी सीधे-सीधे हत्या की आशंका नहीं जता रहे हैं। मगर पोस्टमार्टम की रिपोर्ट से मौत के कारणों को जानना भी चाहते हैं। यही नहीं सफाई कर्मियों ने मृतक के बेटों से हमदर्दी जताते हुए मुआवजे की भी मांग की है। बता दें कि बलीराम एक बड़े ही मिलनसार और अच्छे स्वभाव का व्यक्ति था। वह नाहन मेडिकल कॉलेज में सफाई कर्मी लगा हुआ था।

बरहाल बलिराम की मौत सर्पदंश से हुई है या फिर उसकी हत्या। यह तो अब पोस्टमार्टम के बाद ही पता चल पाएगा। मगर जिस प्रकार सफाई कर्मियों ने अपने साथी को लेकर एकजुटता के साथ पोस्टमार्टम से मौत के कारणों की जांच की मांग की है। उससे तो कहीं ना कहीं यह भी स्पष्ट हो जाता है की सफाई कर्मी किसी बड़े राज से वाकिफ है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो