सिरमौर के भी खुले भाग, 5 जिलों की 22 योजनाओं के लिए 699 करोड स्वीकृत

HNN News मंडी

सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य, बागवानी व सैनिक कल्याण मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने शुक्रवार को जारी एक प्रेस बयान में कहा कि हिमाचल प्रदेश में पेयजल व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए राष्ट्रीय विकास बैंक (ब्रिक्स) के माध्यम से नई योजनाओं का निर्माण किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि यह योजनाएं आंशिक रूप से पानी प्राप्त कर रही बस्तियों को पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध करवाने के लिए बनाई जा रही हैं। इसके प्रथम चरण में जिला शिमला, सोलन, सिरमौर, कांगड़ा व मंडी जिलों में 22 योजनाओं के लिए लगभग 699 करोड़ रुपए की स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है।

उन्होंने कहा कि इस योजना के द्वितीय चरण में कुल 61 योजनाओं के लिए लगभग 2560 करोड़ रुपए की धनराशि का प्रावधान प्रस्तावित है। इस चरण में शिमला जोन की 24, हमीरपुर जोन की 14, धर्मशाला जोन की 13 तथा मंडी जोन की 10 योजनाएं प्रस्तावित हैं। जिससे 49 विधानसभा क्षेत्रों की कुल 11,872 बस्तियों की लगभग 17 लाख 59 हजार की आबादी लाभान्वित होगी। इनमें शिमला क्षेत्र के 13, हमीरपुर के 15, धर्मशाला के 13 तथा मंडी क्षेत्र के 8 विधानसभा क्षेत्र के लोगों को लाभान्वित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि विपक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे इस महत्वाकांक्षी योजना के बारे में दुष्प्रचार कर लोगों को बरगलाने का प्रयास कर रहे है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में प्रदेश सरकार सबका साथ-सबका विकास की भावना से कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने स्वयं एक वर्ष की अवधि में 60 से अधिक विधानसभा क्षेत्रों का दौरा कर विकास योजनाएं लोगों को समर्पित की हैं। उन्होंने कहा कि विपक्ष प्रदेश सरकार के एक वर्ष के कार्यकाल की उपलब्धियों पर पीठ थपथपाने के विपरीत बौखलाहट में आकर अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहा है।

ठाकुर महेंद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के कुशल व ऊर्जावान नेतृत्व में पूरे प्रदेश का एकसमान विकास करवाने के लिए कृतसंकल्प है और एक वर्ष के अल्प कार्यकाल में लगभग चौदह हजार करोड़ रुपए की सहायता केंद्र सरकार से प्राप्त किया जाना एक बड़ी उपलब्धि है । यही नहीं इस सहायता राशि का समान वितरण सभी क्षेत्रों के लिए बगैर किसी भेदभाव के किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *