सिरमौर में टीबी के मरीजों की पहचान के लिए चलाया जाएगा एक्टिव केस फाइडिंग अभियान

HNN/ नाहन

जिला सिरमौर में 01 अगस्त, 2021 से स्वास्थ्य विभाग व महिला एंव बाल विकास विभाग की टीम घर द्वार जाकर टीबी मरीजों की पहचान करेगी और टीबी के लक्षण पाए जाने पर बलगम की जांच टीबी टेस्टिंग सेंटर पर जांच के लिए भेजेगी। यह जानकारी उपायुक्त सिरमौर रामकुमार गौतम ने क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम की विशेष समीक्षा बैठक के दौरान दी। उन्होंने बताया कि जिला में क्षय रोगियों की पहचान के लिए खण्ड स्तर पर 609 टीमों का गठन किया जाएगा जिसमें स्वास्थ्य विभाग की आशा वर्कर व महिला एवं बाल विकास विभाग की आंगनवाडी कार्यकर्ता और आवश्यकता पडने पर आयुर्वेदिक विभाग के फार्मासिस्ट की सहायता ली जाएगी।

जो कि 1 अगस्त से जिला की प्रत्येक पंचायतों व सभी गांव में घर-घर जाकर, टीबी मरीजों की पहचान करेगी। उन्होंने विभाग को आदेश दिए कि जिला के सभी हाई रिस्क क्षेत्र ,औद्योगिक क्षेत्र व निर्माणाधीन कार्यो में लगे लोगो की टीबी जांच करना सुनिश्चित करें। इसके अतिरिक्त 28 जुलाई से 31 जुलाई, 2021 तक गठित टीमों को विधिवत प्रशिक्षण देना भी सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि जिला में 8 स्थानों जिसमें शिलाई, पांवटा साहिब, ददाहू, सरांहा, राजगढ, नोहराधार व संगडाह व मडिकल कॉलेज नाहन में कफ कॉर्नर स्थापित किया जाएगा।

जिसमें जिलावासी बलगम की मुफ्त जांच करवा सकते है। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा क्षय रोग पर काबू करने के लिए ‘टीबी आरोग्य साथी’ एप लॉच किया गया है। इसके अतिरिक्त क्षय रोग के बारे में अधिक जानकारी के लिए 104 टोल फ्री नम्बर पर भी सम्पर्क करा सकते है। उन्होंने जिला वासियों से अपील करते हुए कहा कि इस अभियान को सफल बनाने में सहयोग करे। टीबी के शुरुआती लक्षण पाए जाने पर बलगम की जांच करवाए ताकि शुरुआती स्तर पर ही इसे ईलाज कर रोका जा सके।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो