सुकेत वनमण्डल के तहत ज्वाला-पन्यास रोड़ पर अवैध तौर पेड़ कटान व सड़क निर्माण मामला

आखिर वन विभाग ने पीडब्लूडी ठेकेदारों के खिलाफ करवाई एफआईआर

HNN News/ मंडी

सुकेत वन मण्डल के अधीन ज्वाली-पंजोग क्षेत्र में तकरीबन डेढ़ किलोमीटर सड़क का अवैध तौर पर निर्माण और सैकड़ो पेड़ो के अवैध कटान का मामला उजागर होने उपरांत आखिर वन विभाग हरकत में आया है विभाग ने पीडब्लूडी महकमे के ठेकेदारों के खिलाफ बीएसएल थाना में एफआईआर दर्ज करवाई है।

हालांकि अभी भी पीडब्लूडी के आला अधिकारी सड़क निर्माण के टेंडर व वर्क आर्डर जारी करने से इनकार कर रहे है। यहा बता दे कि पिछले 2 महीनों तकरीबन डेढ किलोमीटर क्षेत्र में बिना अनुमति अवैध कटान कर सड़क कार्य को अंजाम दिया गया जबकि चंद किलोमीटर दूर बैठे वन अधिकारी,पीडब्ल्यू डी विभाग आँखे मूंदे रहे।

ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि बड़े स्तर मिलीभगत कर इस कार्यो को अंजाम देते हुए सैकड़ों पेड़ो की बलि दे दी गई और बेशकीमती लकड़ी ठूठों सहित रातो रात खुर्द बुर्द कर दी गई।एफआईआर दर्ज होने की पुष्टि करते हुए थाना प्रभारी प्रकाश चन्द मिश्रा ने बताया कि भारतीय दंड सहित 447,379, इंडियन फारेस्ट एक्ट की धारा 32-33 व वन (सरक्षण )अधिनियम के सेक्शन 3 ए के तहत मामला दर्ज कर छानबीन की जा रही है।

आर. एस. खालसा एक्सईएन पीडब्ल्यूडी गोहर का कहना है कि सड़क निर्माण पंचायत स्तर पर किया गया होगा। पीडब्ल्यूडी विभाग ने ज्वाली -पंजोग सड़क निर्माण को कोई भी टेंडर/कुटेशन नही निकाली है ना ही कोई वर्क आर्डर दिया है।

कंजर्वेटर ऑफ फारेस्ट उपासना पटियाल अनुसार मंडी वन भूमि पर सड़क बनाने व पेड़ो के अवैध कटान मामले में एफआईआर करवाई गई है।मामले में ठेकेदारों व अन्य की मिलीभगत हो सकती है।मामले में सलिप्त लोगो को किसी कीमत पर बख्शा नही जाएगा।