स्वर्णिम हिमाचल दृष्टिपत्र को सरकार के नीति दस्तावेज के रूप में अपनाया-जय राम ठाकुर

हिमाचल प्रदेश सरकार के 1 वर्ष के कार्यकाल के सफलतापूर्वक पूरा होने पर आयोजित जन आभार रैली मैं बतौर मुख्य अतिथि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिरकत करी। धर्मशाला निश्चित समय पर पहुंचे पर प्रधानमंत्री का जोरदार स्वागत हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शॉर्ट हिमाचली टोपी तथा स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि वह जब भी हिमाचल का दौरा करते हैं तो उन्हें लगता है कि वह अपने ही घर आ रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने समारोह को अपनी भव्य उपस्थिति से ऐतिहासिक बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का धन्यवाद करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने पार्टी के ‘स्वर्णिम हिमाचल दृष्टिपत्र’ को सरकार के नीति दस्तावेज के रूप में अपनाया है और पहले ही दिन से सरकार ने सुनिश्चित किया है कि विकास के लाभ सबसे निचले स्तर पर रहने वाले व्यक्ति तक पहुंचे।



      मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार का पहला ही निर्णय वरिष्ठ नागरिकों के कल्याण पर लक्षित था, जिसमें पेंशन प्राप्त करने के लिए वरिष्ठ नागरिकों की आयु सीमा को 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया गया और वह भी बिना किसी आय सीमा के और इस निर्णय से राज्य के 1.30 लाख से अधिक वृद्धजन लाभान्वित हुए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के लोगों की विकासात्मक आवश्यकताओं तथा अपेक्षाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करने के उद्देश्य से उन्होंने एक वर्ष की इस छोटी सी अवधि के दौरान राज्य के कुल 68 विधानसभा क्षेत्रों में से 63 निर्वाचन क्षेत्रों का दौरा किया है। 

क्या बोले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर

जय राम ठाकुर ने कहा कि सरकार द्वारा शुरू किया गया जन मंच आम आदमी के लिए उनकी शिकायतों के तत्काल निवारण में वरदान साबित हुआ है। उन्होंने कहा कि राज्य के 65 निर्वाचन क्षेत्रों में 76 जन मंच आयोजित किए जा चुके हैं, जिनमें 20,062 शिकायतों का निपटारा किया गया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना के तहत लाभार्थियों को 32,134 नए एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए गए हैं। इसके अतिरिक्त, इस अवधि के दौरान केन्द्र सरकार की उज्ज्वला योजना अन्तर्गत 85,421 एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक घर में एलपीजी कनेक्शन की सुविधायुक्त हिमाचल प्रदेश देश का पहला राज्य बन जाएगा। 



      मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार लोगों को उनके घरद्वार के समीप बेहतर स्वास्थ्य उपचार सुविधाएं प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि सरकार सुनिश्चित कर रही है कि प्रत्येक व्यक्ति को बेहतर स्वास्थ्य देखभाल की  सुविधा उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि ‘हिम केयर’ योजना उन परिवारों के लिए आरम्भ की गई है, जो आयुष्मान भारत अथवा अन्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति योजना में शामिल नहीं हैं। उन्होंने कहा कि योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने पर पांच लाख रुपये तक के निःशुल्क उपचार का प्रावधान किया गया है।



      मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रकृति ने हिमाचल प्रदेश को अपार पर्यटन क्षमता से नवाजा है और राज्य सरकार इसके अधिक से अधिक दोहन के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश के अनछुए गंतव्यों को विकसित करने के लिए ‘नई राहें, नई मंजिलें’ योजना शुरू की है। उन्होंने राज्य के लिए 1900 करोड़ रुपये की एशियन विकास बैंक पर्यटन विकास परियोजनाएं स्वीकृत करने के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया।



      केन्द्र द्वारा राज्य के लिए प्रदान की गई उदार वित्तीय सहायता के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र ने एक वर्ष की इस छोटी सी अवधि के दौरान राज्य के लिए 9100 करोड़ से अधिक की परियोजनाएं स्वीकृत की हैं। उन्होंने कहा कि इससे राज्य में विकास की गति तेज हुई है।   मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को राज्य के लोगों के पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया और कहा कि प्रधानमंत्री का हिमाचल प्रदेश के लोगों के प्रति जो प्यार और स्नेह है, वह इसके लिए उनके ऋणी हैं।

 

   इस मौके पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी.नड्डा, हिमाचल मामलों के प्रभारी मंगल पांडेय, पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल, पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद शांता कुमार, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती, विधानसभा अध्यक्ष डॉ.  राजीव बिंदल, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर, खाद्य व नागरिक आपूर्ति मंत्री किशन कपूर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, बहु-उद्देशीय परियोजनाएं एवं ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा, शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी, कृषि मंत्री डॉ. राम लाल मारकंडा, स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर, उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह, वन और परिवहन मंत्री गोविंद ठाकुर, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. राजीव सैजल, सांसद वीरेन्द्र कश्यप, अनुराग ठाकुर और राम स्वरूप शर्मा, मुख्य सचेतक नरेन्द्र बरागटा, विभिन्न बोर्डों और निगमों के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, विधायकगण, मुख्य सचिव बी.के. अग्रवाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकांत बाल्दी, पुलिस महानिदेशक एस.आर. मरड़ी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।  

       

       

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *